By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

झारखंड: पांच पुलिसकर्मियों की हत्या में शामिल चार नक्सली गिरफ्तार

- sponsored -

सरायकेला-खरसांवा जिले के तिरुलडीह बाजार में पांच पुलिसकर्मियों की हत्या मामले में पुलिस ने चार नक्सलियों को गिरफ्तार किया है।

-sponsored-

झारखंड: पांच पुलिसकर्मियों की हत्या में शामिल चार नक्सली गिरफ्तार

सिटी पोस्ट लाइव, रांची: सरायकेला-खरसांवा जिले के तिरुलडीह बाजार में पांच पुलिसकर्मियों की हत्या मामले में पुलिस ने चार नक्सलियों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार नक्सली प्रतिबंधित संगठन भाकपा माओवादी के कुख्यात महराज प्रमाणिक दस्ते के हैं। गिरफ्तार नक्सलियों में सुनील टुडू, बुधराम मार्डी श्रीराम मांझी और रामु लोहरा शामिल है। इनके पास से वारदात में प्रयुक्त दो बाइक, मोबाइल फोन, लोकसभा चुनाव बहिष्कार के पोस्टर और शहीद पुलिसकर्मी युधिष्ठिर मलुआ का सिम कार्ड बरामद किया गया है। सरायकेला एसपी कार्तिक एस  ने शनिवार को बताया कि गुप्त सूचना के आधार पर छापेमारी कर सुनील टुडू को ईचागढ़ से सबसे पहले गिरफ्तार किया गया। पूछताछ में उसने अपना अपराध स्वीकार किया। पूछताछ में सुनील ने पुलिस को बताया कि घटना की योजना रमेश उर्पु अनल ने बनायी थी। इसके बाद घटना को महराज प्रमाणिक के दस्ते ने अंजाम दिया। सुनील टुडू की निशानदेही पर तीन अन्य नक्सलियों को गिरफ्तार किया गया। घटना को अंजाम देने से पहले रमेश उर्फ अनल ने कुछ दिनों पहले तक कुकडू बाजार में पुलिस की गतिविधियों की रेकी करवाई थी। घटना को अंजाम देने के लिए नक्सली सात बाइक पर तीन-तीन की संख्या में पहुंचे थे। अनल ने घटना को अंजाम देने के लिए चार दस्तों की टीम बनायी थी। डीआईजी कोल्हान कुलदीप द्विवेदी ने बताया कि चार नक्सलियों की गिरफ्तारी पुलिस की बहुत बड़ी सफलता है। इन लोगों ने हमारे पांच बहादुर जवानों की हत्या की थी। पुलिस उस घटना में शामिल एक-एक नक्सली को गिरफ्तार करने और उन्हें सजा दिलाने के लिए प्रतिबद्ध है। द्विवेदी ने कहा कि इन नक्सलियों की गिरफ्तारी से पुलिस के हौसले बुलंद है। उन्होंने कहा कि नक्सलियों के खिलाफ पुलिस का अभियान और तेजी से चलाया जायेगा। यह अभियान तबतक चलेगा जबतक नक्सलियों का सफाया नहीं कर दिया जायेगा। उल्लेखनीय है कि 14 जून को नक्सलियों ने पांच पुलिसकर्मियों की हत्या कर दी थी। शहीद जवानों में एएसआई गोवर्धन पासवान, मानोधन हांसदा, धनेश्वर महतो, युधिष्ठिर और डिबरु पूर्ति शामिल थे।

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.