By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

जहरीली शराब कांड की जांच के लिए नालंदा पहुंचे केके पाठक.

HTML Code here
;

- sponsored -

-sponsored-

सिटी पोस्ट लाइव : बिहार के नालंदा में जहरीली शराब से हुई मौतों के बाद पुरे राज्य भर में छापेमारी की जा रही है . नालंदा जिला स्थित सोहसराय में जहरीली शराब पीने से 12 लोगों की हुई मौत (Nalanda Poisonous Liquor Death Case) के मामले में जांच के बाद चौंकाने वाले खुलासे सामने आये हैं. मद्य निषेध विभाग की टीम ने जांच के दौरान यह पाया है कि जहरीली शराब में जिस स्प्रिट का उपयोग किया गया है वह झारखंड के रास्ते नालंदा पहुंची थी. बिहारशरीफ की छोटी पहाड़ी पर ही शराब बनाई गई थी. मद्य निषेध, उत्पाद एवं निबंधन विभाग की प्राथमिक जांच में अब तक यह बात सामने आई है.

सीएम नीतीश कुमार के गृह जिला नालंदा में जहरीली शराब से हुई मौत के बाद से बिहार की सियासत गरमाई हुई है और विपक्ष इस मुद्दे पर लगातार सरकार को घेरने की कोशिश कर रहा है. विभाग के अपर मुख्य सचिव केके पाठक, उत्पाद आयुक्त बी कार्तिकेय धनजी ने सोमवार को नालंदा का दौरा किया और डीएम-एसपी के साथ स्थल का निरीक्षण किया. मद्य निषेध विभाग के अधिकारियों की मानें तो पुलिस की एक विशेष टीम इस मामले की जांच के लिए झारखंड जाएगी और मामले की जांच करेगी. नालन्दा में पूरे मामले की जांच के बाद पटना लौटे उत्पाद आयुक्त बी कार्तिकेय धनजी ने बताया कि स्थानीय पुलिस-प्रशासन के साथ डॉक्टरों और पीडि़त के परिजनों ने भी जहरीली शराब पीने की जानकारी दी है, ऐसे में मौत की वजह जहरीली शराब ही प्रतीत हो रहा है.

उत्पाद आयुक्त के अनुसार इस मामले में थानेदार पहले ही निलंबित किए जा चुके हैं और उत्पाद विभाग के भी जो अधिकारी दोषी होंगे उन्हें भी नही बख्शा जाएगा. उनके विरुद्ध विभागीय कार्रर्वाई की जाएगी. नालंदा के छोटी और बड़ी पहाड़ी इलाके में पहुंचे उत्पाद विभाग के अपर मुख्य सचिव केके पाठक ने नालन्दा के जिलाधिकारी और एसपी को अविलंब इलाके में अवैध ढंग से रह रहे लोगों को हटाने का निर्देश दिया. जांच में यह बात आई है कि अतिक्रमण की आड़ में यहां लंबे समय से अवैध शराब बनाई और बेची जा रही थी.

Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

उत्पाद विभाग द्वारा जो अभियान चलाया जा रहा है उस अभियान के तहत केवल जनवरी माह के पहले 15 दिनों में पांच हजार लोगो को गिरफ्तार किया गया हैं. पहले पखवारे में पुलिस और उत्पाद विभाग की कार्रवाई में करीब डेढ़ लाख लीटर अवैध शराब जब्त की गई है. इस दौरान 598 वाहनों को भी जब्त किया गया है. पिछले एक सप्ताह में पुलिस ने 11 हजार जबकि उत्पाद विभाग द्वारा चार हजार से अधिक छापेमारी की गई है इसमें 311 लोगों को शराब की होम डिलीवरी मामले में गिरफ्तार किया गया है, साथ ही अभियोग के 1900 से अधिक मामले दर्ज किये गये हैं.

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.