By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

डीजीपी के राडार पर पॉक्सो के केस में चार्जशीट दाखिल नहीं करनेवाले थानेदार.

DGP सख्त, इन 10 थानों के वर्दीवालों पर कार्रवाई तय, मासूमों के दुष्कर्मियों को बचाने का आरोप.

- sponsored -

-sponsored-

डीजीपी के राडार पर पॉक्सो के केस में चार्जशीट दाखिल नहीं करनेवाले थानेदार.

सिटी पोस्ट लाइव : मासूमों के साथ दुष्कर्म करनेवालों के साथ नरमी बरतने वाले कई थानेदार दीजेपी के निशाने पर आ गए हैं. एक रिपोर्ट के मुताबिक पटना की एक्टिव पुलिस 37 फीसदी पॉक्सो के केस में चार्जशीट ही दाखिल नहीं कर पाती और मासूमों के साथ गंदा काम करने वालों को जमानत मिल जाती है. रिपोर्ट के मुताबिक 11 थानों ही 50 फीसदी से अधिक केस में चार्जशीट नहीं की गई. ऐसे में दुष्कर्मी आसानी से बच निकल जा रहे हैं.

रिपोर्ट के मुताबिक जिन 60 थानों 261 केस में चार्जशीट नहीं दायर किया गया है उसमें महिला थाना सबसे आगे है. उसके बाद बिहटा थाना, बख्तियारपुर थाना, मसौढ़ी थाना, मनेर थाना, फुलवारी थाना, धनरुआ, पालीगंज और जक्कनपुर थाना भी लिस्ट में शामिल है. अंदरखाने से यह खबर है कि इन थानों पर जल्द कार्रवाई होना तय है. डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने कहा है कि जिन केसों का चार्जशीट नहीं हुआ है, एक हफ्ते के भीतर उसकी समीक्षा की जाएगी. साथ ही डीजीपी ने कहा कि जिन पुलिस वालों की वजह से कोर्ट में चार्जशीट दाखिल नहीं हुआ, उन पर कार्रवाई तय है.डीजीपी के इस तेवर से दर्जनों थानेदारों की पतलूनें गीली हो रही हैं.

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.