By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

पुलिस ने ग्रामीणों की मदद से तीन लुटेरों को पकड़ा, रेकी कर देते थे लूट की घटना को अंजाम

;

- sponsored -

गुरुवार को जिले के दक्षिणी पूर्वी हिस्से में अवस्थित नौहट्टा थाना क्षेत्र में बलभद्रपुर गाँव के पास ATM से पैसे निकाल कर जा रहे दो बाइक सवार व्यक्ति को घेरकर बदमाशों ने ढाई लाख रुपए के साथ उनकी बाइक और मोबाइल भी लूट ली.

[pro_ad_display_adzone id="49226"]

-sponsored-

पुलिस ने ग्रामीणों की मदद से तीन लुटेरों को पकड़ा, रेकी कर देते थे लूट की घटना को अंजाम

सिटी पोस्ट लाइव : पिछले कुछ दिनों से जिले में बाइक सवार लुटेरों ने कोहराम मचा रखा था. लुटेरों के वही शिकार हो रहे थे जो बैंक से पैसे निकाल कर आ रहे थे. गुरुवार को जिले के दक्षिणी पूर्वी हिस्से में अवस्थित नौहट्टा थाना क्षेत्र में बलभद्रपुर गाँव के पास ATM से पैसे निकाल कर जा रहे दो बाइक सवार व्यक्ति को घेरकर बदमाशों ने ढाई लाख रुपए के साथ उनकी बाइक और मोबाइल भी लूट ली. घटना को अंजाम देने के बाद भाग रहे लुटेरों का पीछा कर रहे पुलिस और ग्रामीणो पर अपराधियों द्वारा की गयी फायरिंग जिसमें एक ग्रामीण को कान में गोली लग गई जिसमें वो घायल हो गया.

पुलिस अधीक्षक सत्यवीर सिंह ने प्रेसवार्ता में बताया कि दिनांक 4 अक्टूबर को 12 बजे दिन में अमझोर स्थित स्टेट बैंक के ATM मशीन से नौहट्टा स्थित स्टेट बैंक के ग्राहक सेवा केंद्र के लिए ढाई लाख रुपये निकाल कर नावाडीह (रोहतास) निवासी किशोर कुमार व जयमुनी सिंह अपनी बाइक से नौहट्टा के लिए चले थे. रास्ते में बलभद्रपुर के पास सुनसान स्थान पर उन्हें पिस्टल के बल पर पीछा कर रहे तीन अपराधियों ने घेर कर उनसे पैसे और उनकी बाइक मोबाइल लूट कर चलते बने. लूट के शिकार बने व्यक्ति ने होशियारी दिखायी. किसी राहगीर को अपना दुखड़ा सुना उनसे मोबाइल लेकर नौहट्टा के थानाध्यक्ष शशिभूषण प्रसाद को सूचना दिया और भागने के रास्ते को बताया. नौहट्टा थानाध्यक्ष ने बिना समय गवाएं तुरंत चुटिया थानाध्यक्ष सीआरपीएफ कैंप तिउरा एवं आसपास के जनप्रतिनिधियों को सूचना देते हुए अपराधियों की घेराबंदी करने का आग्रह किया.

Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

पुलिस एवं ग्रामीणों के द्वारा पीछा करते देख अपराधियों ने सोन नदी के पंडूका घाट के पूर्व ही मोटरसाइकिल छोड़कर सोन नदी के तरफ भागने लगे. भाग रहे अपराधियों में से एक अपराधी को ग्रामीण विनय पासवान ने पकड़ने का प्रयास किया इसी क्रम में एक अपराधी ने गोली चला दी जिसमें विनय पासवान जख्मी हो गया. लगातार सोन नदी में अपराधियों का पीछा पुलिस और ग्रामीणों द्वारा किया जाने लगा इसी क्रम में अपराधियों द्वारा दो और फायर किया गया, परंतु पुलिस और ग्रामीणों के द्वारा उक्त तीनों अपराधियों को पकड़ लिया गया. गिरफ्तार अपराधियों के पास हथियार कारतूस और उनके निशानदेही पर 3 पल्सर मोटरसाईकिल बरामद किए गए. लूटे गए रुपयों को इन तीनों अपराधियों के साथ आए उनके सहयोगी दूसरे मोटरसाइकिल से लेकर फरार हो गए.पुलिस द्वारा गिरफ्तार अपराधियों से पूछताछ के क्रम में बताया कि पिछले 10 दिनों से जिले में हमलोगों द्वारा लूट की घटना को स्थानीय सहयोगी की मदद से रेकी करते हुए घटना को अंजाम दिया गया था. इनकी निशानदेही पर स्थानीय सहयोगी औरंगाबाद के कई ठिकानों पर छापेमारी की गई. जिसमे दो और अपराधी को पुलिस गिरफ्तार करने में सफल हुई है. गिरफ्तार अपराधी अभिषेक कुमार उर्फ अजय, विजय प्रकाश पाण्डेय जिला औरंगाबाद विवेक कु. सिंह,पलामू, झारखण्ड और स्थानीय पंडुका का रहने वाला चन्दन चौधरी और शिशु चौबे जो कि परछा चुटिया का रहने वाला हैं. इन अपराधियों का औरंगाबाद और झारखंड के पलामू के थानों में कई आपराधिक मामले दर्ज है.

वही अपराधियों के पकड़ने के क्रम में घायल हुए ग्रामीण विनय पासवान एवं धनंजय कुमार को पुलिस अधीक्षक सत्यवीर सिंह व अनुमण्डल पुलिस पदाधिकारी डेहरी अनवर जावेद ने इलाज कराने का भरोशा दिलाया. साथ ही साथ रोहतास पुलिस ने आपसी सहयोग अपने बेतन से अपराधियों को पकड़ने व जांबाजी दिखाने वाले विनय पासवान को 40 हज़ार और धनंजय कुमार को 15 हज़ार रुपये का आर्थिक सहयोग किया एवं आगे भी कार्यक्रम के माध्यम से इन सभी को सम्मनित भी किया जाएगा. उन्होंने कहा कि जब तक पुलिस को पब्लिक का सहयोग नही मिलेगा तक इस तरह के अपराध पर लगाम नही लगाई जा सकती।

जिस तरह से अपनी जान की परवाह किये बगैर विनय पासवान व धनंजय ने बहादुरी का परिचय दिखाया है वो वाकई काबिले तारीफ है. गोली लगने के बावजूद विनय ने जांबाजी से अपराधियों को पकड़वाने में सहयोग किया जो काबिले तारीफ है. अगर समाज मे विनय जैसे जांबाज रहे तो अपराधियों का मनोबल बिल्कुल ही टूट जायेगा. हमारे समाज में अभी और भी विनय की जरूरत है. खैर एक बात तो जरूर है कि रोहतास पुलिस के इस कदम से युवाओ में अपराधियों को पकड़वाने और उनकी सूचना देने और पुलिस को सहयोग की लालसा जगेगी और अपराध पर अंकुश लगाने में काफी हद तक कामयाबी मिल पायेगी, जिससे समाज में एक अच्छा संदेश भी जायेगा.

रोहतास से विकाश चन्दन की रिपोर्ट

-sponsered-

;

-sponsored-

Comments are closed.