By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

पुलिस ने नक्सलियों की बड़ी साजिश को किया विफल,11 लैंड माइंस निष्क्रिय

;

- sponsored -

झारखंड में पश्चिमी सिंहभूम जिले के सारंडा में नक्सलियों की बड़ी साजिश को पुलिस ने फिर नाकाम कर दिया है। गोइलकेरा थाना क्षेत्र के कुरकुटिया – हुसीपी सड़क पर 11 लैंडमाइंस बरामद किया गया।

[pro_ad_display_adzone id="49226"]

-sponsored-

सिटी पोस्ट लाइव, चाईबासा: झारखंड में पश्चिमी सिंहभूम जिले के सारंडा में नक्सलियों की बड़ी साजिश को पुलिस ने फिर नाकाम कर दिया है। गोइलकेरा थाना क्षेत्र के कुरकुटिया – हुसीपी सड़क पर 11 लैंडमाइंस बरामद किया गया। पुलिस पार्टी को नुकसान पहुँचाने के लिए सीरीज में लगाये गए लैंडमाइंस को बम निरोधक दस्ते की मदद से विनष्ट कर दिया गया। पुलिस अधीक्षक इंद्रजीत महाथा ने कहा कि जिला पुलिस, सीआरपीएफ और झारखंड जगुआर के संयुक्त प्रयास से ये सफलता मिली है।

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि गोईलकेरा थाना क्षेत्र के कुरकुटिया से हुसीपी गांव जाने वाले जंगल के कच्चे रास्ते में तरोबड़ीपा से पहले ससंगटोला के निकट भाकपा-माओवादियों द्वारा सीरिज केन बम लगाये जाने की सूचना मिलने पर जिला पुलिस, सीआरपीएफ की 60वीं बटालियन, झारखंड जगुआर और सीआरपीएफ की बीडीडीएस टीम द्वारा संयुक्त अभियान चलाया गया। अभियान के दौरान सीरीज में लगाये गये 11 आईईडी केन बमों को डिटेक्ट किया गया। करीब 50 फीट के दायरे को कवर करते हुए कुरकुटिया से हुसीपी जाने के जंगल के कच्चे रास्ते में तरोबड़ीपा से पहले ससंगटोला के पास भिन्न-भिन्न वजन के 20 किग्रा तक वजन वाले अलगल्अीग 11 केन बम को कोर्डेक्स वायर से एक-दूसरे से कनेक्ट कर छिपा कर रखा गया था।

सीरीज में लगे इन आईईडी केन बम को भाकपा-माओवादियों द्वारा सुरक्षा बलों को नुकसान पहुंचाने के उद्देश्य से निकाया गया था, लेकिन आईईडी बम को चिह्नित करने के बाद एसओपी का पालन करते हुए सभी केन बमों को निष्क्रिय कर दिया गया। बताया गया है कि कच्चे रास्ते का उपयोग आम तौर पर ग्रामीण ही आने-जाने के लिए करते है और इससे ग्रामीणों को भी नुकसान पहुंचने की आशंका थी। पुलिस ने इस मामले में अज्ञात के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर ली है और केन बम बिछाने वाले नक्सलियों के खिलाफ इलाके में सघन जांच अभियान चलाया जा रहा है।

-sponsered-

;

-sponsored-

Comments are closed.