By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

मुजफ्फरपुर : बच्चा चोरी के आरोप में आरोपी को पेड़ से बांधकर रात भर की पिटाई

- sponsored -

मुजफ्फरपुर में बच्चा बेचने के विवाद में चाकु चल गया जिसमें एक युवक को चाकु लग गया। घटना के बाद आक्रोशित लोगों नें आरोपी को पेड़ से बांध कर रात भर पीटा और दिन में छुड़ाने गयी पुलिस से छीनकर मॉब लिंचिंग की कोशिश की।

-sponsored-

मुजफ्फरपुर : बच्चा चोरी के आरोप में आरोपी को पेड़ से बांधकर रात भर की पिटाई

सिटी पोस्ट लाइव : मुजफ्फरपुर में बच्चा बेचने के विवाद में चाकु चल गया जिसमें एक युवक को चाकु लग गया। घटना के बाद आक्रोशित लोगों नें आरोपी को पेड़ से बांध कर रात भर पीटा और दिन में छुड़ाने गयी पुलिस से छीनकर मॉब लिंचिंग की कोशिश की। बड़ी मशक्कत से पुलिस नें आरोपी को भीड़ से छुड़ाया और गाड़ी में लादकर भाग चली। घटना सदर थाना इलाके की है। जानकारी के मुताबिक अहियापुर थाना के बैरिया निवासी संजय महतो और उषा देवी नें अपने छठे बच्चे को सदर थाना के खबरा निवासी मोहन राम से बेच दिया। मोहन और बच्चे की बिक्री में बिचौलिये की भूमिका निभाने वाली उर्मिला देवी नें बताया कि उषा देवी को पहले से पांच बच्चा था जबकि मोहन को कोई संतान नही थी। इसलिए दोनो के बीच गर्भवति उषा के बच्चे की डील हो गयी।

बीते 15 अगस्त को एक नीजी अस्पताल में उषा नें एक बच्चे को जन्म दिया और फोन करके मोहन राम और उसकी पत्नी नीरु को बुलाया। 16 अगस्त को बच्चे का बीस हजार में सौदा हो गया और मोहन नें दस हजार का भूगतान भी कर दिया। बाकी दस हजार रुपये नही देने पर उषा देवी और संजय राम नें मोहन और नीरू देवी पर बच्चा गायब करने का केस कर दिया। बीती संजय महतो और उषा देवी अहियापुर थाना पुलिस और सदर थाना पुलिस के साथ मोहन राम के घर पर बच्चे की रिहाई के लिए पहुंचे। पुलिस को देखकर मोहन और उसके मुहल्ले के लोगों नें हो हंगामा शुरु कर दिया। इसी बीच बच्चा बच्चे के असली पिता संजय राम ने चाकु चला दिया जो मोहन के भतीजे विजय के कमर में लग गयी। उसके बाद माहौल और भी बिगड़ गया तो पुलिस भाग चली और संजय महतो फंस गया।

Also Read

-sponsored-

चाकु चलाने के आरोप में भीड़ ने संजय महतो को पकड़ कर जमकर पीटा और एक पेड़ से बांध दिया। दिन में जब सदर थाना पुलिस उसे छुड़ाने पहुंची तो फिर से हंगामा हो गया। ग्रामीण वरीय अधिकारी को बुलाने की मांग पर अड़ गये। इस बीच पुलिस के सामने भी संजय की पिटाई की। जैसे तैसे पुलिस संजय को छुड़ाने में कामयाब रही लेकिन एक बाद फिर भीड़ उग्र हो गयी और पुलिस से छीन कर आरोपी की जमकर पिटाई की। पुलिस नें बड़ी मुस्तैदी से संजय को भीड़ से निकालकर स्कॉर्पियो में लेकर भाग चली तब जाकर उसकी जान बची। इस बीच भीड़ नें पुलिस के साथ भी जमकर हाथापाई की। इस मामले में बच्चा बेचने वाले संजय महतो नें भी चार हजार रुपये लेने की बात स्वीकार किया है। पुलिस का कहना है कि जांच कर कार्रवाई की जा रही है। फिलहाल संजय महतो को पुलिस नें अस्पताल में भेज दिया है जबकि बच्चा अभी भी खरीदने वाले परिवार मोहन राम और नीरु देवी के पास है।

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.