By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

सीएम बोले-जहां भी जानकारी मिलेगी पुलिस जांच करने जाएगी, बाएं-दाएं किए तो नहीं बचियेगा

HTML Code here
;

- sponsored -

नशा मुक्ति दिवस के अवसर पर बिहार में बड़ा कार्यक्रम आयोजित किया गया. पटना के ज्ञान भवन में आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार शामिल हुए. कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि हमने तो 2015 में ही तय कर लिया था कि फिर से सरकार में आये तो इस बार शराबबंदी लागू करेंगे. 

-sponsored-

सिटी पोस्ट लाइव : नशा मुक्ति दिवस के अवसर पर बिहार में बड़ा कार्यक्रम आयोजित किया गया. पटना के ज्ञान भवन में आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार शामिल हुए. कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि हमने तो 2015 में ही तय कर लिया था कि फिर से सरकार में आये तो इस बार शराबबंदी लागू करेंगे.  2016 में शराबबंदी लागू होने के बाद से अब तक 9 बार समीक्षा कर चुके हैं. इस बार हमने बैठक की.  बैठक में हमने अधिकारियों को साफ-साफ कह दिया है कि शराबबंदी तभी सफल होगी जब पटना पर कंट्रोल होगा. अधिकारियों को सख्त निर्देश देते हुए नीतीश कुमार ने कहा कि राजधानी पटना में शराब पर कंट्रोल करें, पूरा बिहार अपने आप नियंत्रण में आ जाएगा.

सीएम नीतीश ने कहा कि हम देखें हैं कि पटना में सबसे ज्यादा लोग इधर-उधर करता है. अगर पटना में शराब पीने और पिलाने वालों को धर लिए तो पूरे बिहार में किसी को हिम्मत नहीं होगा इधर-उधर करने का. वहीं सीएम ने शादी समारोह में दुल्हन के कमरे में पुलिस की जांच के विवाद पर साफ तौर पर कहा कि पुलिस शादी में जाकर कमरा चेक कर लिया तो बवाल हो गया. अब जब पुलिस को या मध् निषेध विभाग को सुचना मिलेगा तो जांच करने नहीं जायेगा. वो तो कही भी जांच करने जा सकता है. और सबको पता है शादी विवाह में सबसे ज्यादा लोग इधर-उधर कर पीने के चक्कर में रहता है.

सीएम नीतीश ने ये भी साफ कर दिया कि कोई भी अधिकारी या कर्मचारी गड़बड़ किया तो बिल्कुल बर्दाश्त नहीं होगा. ऐसे लोगों पर तुरंत एक्शन होगा. सीएम ने कहा कि जो भी बाएं-दायें करता है उस पर कानून के तहत कार्रवाई करें. सबसे ज्यादा पटना में गड़बड़ होता है. हमने मीटिंग में कह दिया था कि पटना में पकड़िये तो इसका मैसेज सीधा जाएगा.

Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

नीतीश कुमार ने शराबबंदी कानून पर राजद और कांग्रेस की बयानबाजी पर हमला करते हुए कहा कि कुछ लोग बोलते हैं तो भूल जाते हैं, जब शराबबंदी का प्रस्ताव आया था तो यह विभाग किसके पास था. उस पार्टी का एक दो आदमी बोलता है तो मुझको आश्चर्य होता है. जहरीली शराब से मौत पर लोग कई तरह की बात बोलते हैं. लोग चिंता कर रहे थे. खराब दारू मिला जिससे मौत हुई. क्या उसको अच्छा दारू मिलना चाहिए था. क्यों पिया दारू?

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.