By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

किसानों ने रोड पर 50 क्विंटल टमाटर पर चलवा दिया ट्रैक्टर, जानिये क्यों?

1 रूपए किलो भी नहीं बिका टमाटर, हरी शब्जियों के भी नहीं मिल रहे खरीददार ,किसान बेहाल.

HTML Code here
;

- sponsored -

[pro_ad_display_adzone id="49226"]

-sponsored-

सिटी पोस्ट लाइव :कोरोना की वजह से बिहार की अर्थ व्यवस्था प्रभावित होने लगी है.सबसे बुरा हाल किसानों की हैं. मुजफ्फरपुर (Muzaffarpur) के सब्जी किसानों (Vegetable Farmers) की कोरोना ने कमर तोड़ दी है. टमाटर उपजाने वाले किसानों ने बाजार नहीं मिलने की वजह से सब्जियों को सड़क पर फेंकना शुरू कर दिया है.मुजफ्फरपुर के मीनापुर प्रखंड के मझौलिया गांव में सब्जी की खेती बड़े स्तर पर होती है और रोज सब्जी गांव से बाजार के विभिन्न इलाकों में पहुंचाया जाता है. लॉकडाउन के कारण जो किसान 11 बजे तक अपनी सब्जी नहीं भेज पाते हैं उनकी ऊपज अगले दिन खराब हो जाती है, इस वजह से किसान नाराज हैं  और यही कारण है कि किसान टमाटर को सड़क पर फेंक कर प्रदर्शन कर रहे हैं.

लग्न के मौसम में गांव में टमाटर की अच्छी बिक्री होती थी. इलाके के गंज बाजार और नेउरा बाजार में शहर के व्यापारी आकर टमाटर खरीद कर ले जाते थे लेकिन शादी ब्याह और बारात पर शिकंजा कस जाने से टमाटर की खपत नहीं हो रही है.उपज ज्यादा होने पर मीनापुर से टमाटर की खेप नेपाल ले जाया जाता था लेकिन लॉकडाउन में नेपाल का रास्ता भी बन्द हो गया है, ऐसे में टमाटर की कीमत 1 रुपये किलो भी नहीं मिल रही है. यही वजह है कि आक्रोशित किसानों ने 50 क्विंटल टमाटर रोड पर फेंक दिया और उसपर ट्रैक्टर चलवा दिया.

;
HTML Code here

-sponsored-

Comments are closed.