By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

RBI से उलझी मोदी सरकार पर IMF की निगरानी, केंद्र को पीछे हटने की सलाह

;

- sponsored -

आईएमएफ ने कहा कि उसने दुनियाभर में ऐसी सभी कोशिशों का विरोध किया है जहां केन्द्रीय बैंकों की स्वतंत्रता को सीमित करने की कोशिश की गई है। आईएमएफ के कम्युनिकेशन डायरेक्टर गेरी राइस ने कहा कि सरकार को विवाद से पीछे हटने की जरूरत है।

-sponsored-

-sponsored-

RBI से उलझी मोदी सरकार पर IMF की निगरानी, केंद्र को पीछे हटने की सलाह

सिटी पोस्ट लाइव : RBI और केन्द्र सरकार के बीच स्वायत्तता को लेकर जारी जंग के बीच अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष ने कहा है कि वह भारत में जारी विवाद पर नजर बनाए हुए है। आईएमएफ ने कहा कि उसने दुनियाभर में ऐसी सभी कोशिशों का विरोध किया है जहां केन्द्रीय बैंकों की स्वतंत्रता को सीमित करने की कोशिश की गई है। आईएमएफ के कम्युनिकेशन डायरेक्टर गेरी राइस ने कहा कि सरकार को विवाद से पीछे हटने की जरूरत है।

बता दें वित्त मंत्री अरुण जेटली ने मंगलवार को रिजर्व बैंक की आलोचना की थी और 2008 से 2014 के दौरान अंधाधुंध तरीके से ऋण वितरण पर रोक नहीं लगाने का आरोप मढ़ते हुए रिजर्व बैंक को मौजूदा एनपीए संकट के लिए जिम्मेदार बताया था। आईएमएफ के निदेशक (संवाद) गैरी राइस ने विवाद के बारे में पूछे जाने पर बृहस्पतिवार को संवाददाताओं से कहा, ”हम इस बाबत स्थिति की निगरानी कर रहे हैं और आगे भी करते रहेंगे।”

Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

उन्होंने कहा, ”मैंने पहले भी कहा है कि हम जिम्मेदारी और जवाबदेही का समर्थन करते हैं और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर श्रेष्ठ तरीका यह है कि केंद्रीय बैंक की स्वतंत्रता में किसी प्रकार की दखल नहीं होनी चाहिए और उसकी कार्य प्रणाली में सरकार या उद्योग जगत का हस्तक्षेप नहीं होना चाहिए।” राइस ने कहा कि यह सच है कि कई देशों में केंद्रीय बैंक की स्वतंत्रता बेहद मायने रखती है। राइस ने केंद्रीय बैंक की आलोचना के बढ़ते चलन के बारे में पूछे जाने पर कहा, ”हमें इसका इस तरह अफसोस है कि हमें कई देशों के संदर्भ में बयान देना पड़ रहा है। अत: मुझे लगता है कि यह सर्वश्रेष्ठ प्रतिक्रिया है जो मैं आपको दे सकता हूं।”

-sponsered-

;

-sponsored-

Comments are closed.