By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

अयोध्या राम मंदिर के भूमि पूजन में नहीं शामिल होंगे आडवाणी और जोशी!

राम मंदिर आंदोलन के प्रमुख स्तंभ रहे ईन दो नेताओं के शामिल नहीं होने को लेकर उठ रहे सवाल.

;

- sponsored -

राम मंदिर आंदोलन के दो प्रमुख बीजेपी के सीनियर के सीनियर नेता लालकृष्ण आडवाणी (Lalkrishna Advani) और मुरली मनोहर जोशी (Murli Manohar Joshi)  अयोध्या में राम मंदिर भूमि पूजन (Ram Mandir Bhoomi Pujan) कार्यक्रम में शामिल नहीं होगें.

[pro_ad_display_adzone id="49226"]

-sponsored-

सिटी पोस्ट लाइव : राम मंदिर आंदोलन के दो प्रमुख बीजेपी के सीनियर के सीनियर नेता लालकृष्ण आडवाणी (Lalkrishna Advani) और मुरली मनोहर जोशी (Murli Manohar Joshi)  अयोध्या में राम मंदिर भूमि पूजन (Ram Mandir Bhoomi Pujan) कार्यक्रम में शामिल नहीं होगें. सूत्रों के मुताबिक 5 अगस्त को होने वाले कार्यक्रम में कोई इंडस्ट्रियलिस्ट या हाई प्रोफाइल एनआरआई गेस्ट भी नहीं सम्मिलित होगा.प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 5 अगस्त को अयोध्या राम मंदिर भूमि पूजन कार्यक्रम में शामिल होंगे. इस कार्यक्रम के लिए गेस्ट सीमित संख्या में बुलाए गए हैं. राम मंदिर आंदोलन के प्रमुख चेहरे पूर्व उपप्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी और पूर्व एचआरडी मंत्री मुरली मनोहर जोशी का अयोध्या आने का प्रोग्राम नहीं है.

5 अगस्त के कार्यक्रम में जिन्हें शामिल होना है, उनमें पीएम मोदी, सीएम योगी आदित्यनाथ, राष्ट्रीय स्वयंसेवक प्रमुख मोहन भागवत, वीएचपी नेता तथा मंदिर ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय, राम जन्मभूमि न्यास के हेड महंत नृत्यगोपाल दास शामिल हैं. भूमि पूजन कार्यक्रम का लाइव प्रसारण किया जाएगा. इस दौरान पीएम नरेंद्र मोदी का संबोधन भी होगा. पीएम मोदी वायु सेना के स्पेशल विमान से लखनऊ में लैंड करेंगे. इसके बाद चौधरी चरण सिंह एयरपोर्ट से MI-7 चॉपर के जरिये अयोध्या के लिए रवाना होंगे. भूमि पूजनस्थल पर जाने से पहले पीएम के हनुमानगढ़ी मंदिर जाने की भी संभावना है. इसके बाद वह परिजात के पौधे का रोपण कर भूमिपूजन करेंगे. इसके बाद भगवान राम की जिंदगी पर पोस्टल स्टैंप भी जारी करेंगे.

सीएम योगी लखनऊ से ही पीएम के साथ रहेंगे. वह लकड़ी से बनी श्रीराम की मूर्ति भी पीएम को सौंपेंगे. इस कार्यक्रम से पहले पूरे अयोध्या में सुरक्षा के चाक-चौबंद इस्तेमाल कर दिए गए हैं. सजावट का काम भी जारी है.लगातार सुरक्षा व्यवस्था का अधिकारी जायजा ले रहे हैं.लेकिन सबके जेहन में एक ही सवाल है कि जिस आडवाणी और जोशी ने राम मंदिर आन्दोलन शुरू किया, उन्हें क्यों इस कार्यक्रम में नहीं बुलाया गया?

-sponsered-

;

-sponsored-

Comments are closed.