By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

AK-203 दुनिया की सबसे घातक असॉल्‍ट राइफल, जानें AK-47 से कितनी ज्‍यादा खतरनाक

Above Post Content

- sponsored -

भारत और रूस के बीच दशकों से सामरिक साझेदारी रही है. एयर डिफेंस सिस्‍टम्‍स से लेकर न्‍यूक्लियर सबमरीन्‍स तक, रूस ने भारत को कई खतरनाक हथियार एक्‍सपोर्ट किए हैं. AK-203 इस रिश्‍ते को एक नए मुकाम पर ले जाती है.

Below Featured Image

-sponsored-

AK-203 दुनिया की सबसे घातक असॉल्‍ट राइफल, जानें AK-47 से कितनी ज्‍यादा खतरनाक

सिटी पोस्ट लाइव : भारत और रूस के बीच दशकों से सामरिक साझेदारी रही है. एयर डिफेंस सिस्‍टम्‍स से लेकर न्‍यूक्लियर सबमरीन्‍स तक, रूस ने भारत को कई खतरनाक हथियार एक्‍सपोर्ट किए हैं. AK-203 इस रिश्‍ते को एक नए मुकाम पर ले जाती है. साल 1994 में भारतीय सेना ने INSAS राइफलों को शामिल किया गया था. AK-203 उसी की जगह लेगी. आइए जानते हैं AK-203 में क्‍या खास है और यह कुख्‍यात AK-47 से कितनी अलग है.

AK राइफल्‍स की सीरीज में बेसिक फायरिंग मेकेनिज्‍म और इंटरनल्‍स एक जैसे ही रहे हैं. कलाशनिकोव राइफलें गैस-ऑपरेटेड होती हैं. इनमें लॉन्‍ग स्‍ट्रोक गैस पिस्‍टन और रोटेटिंग बेल्‍ट होती है. एक राइफल से हर मिनट 600 से 700 राउंड्स के बीच फायर किए जा सकते हैं.

Also Read
Inside Post 3rd Paragraph

-sponsored-

AK-47 को 1947 में डिजाइन किया गया था. इसमें वुडेन स्‍टॉक, भारी मैगजीन का इस्‍तेमाल होने की वजह से इसका वजन ज्‍यादा हो गया था. नई सीरीज (AK-103/203) में शुरुआती डिजाइन की कमियों को दूर किया गया है.

AK-203 में टॉप कवर हिंज को कवर करने के लिए फ्रंट ट्रनियन और रियर साइट बेस को री-डिजाइन किया गया है. लॉकिंग मेकेनिज्‍म को टॉप पर रखा गया है. AK-203 में साइड फोल्डिंग, 4 पोज‍िशंस वाला टेलीस्‍कोपिंग शोल्‍डर स्‍टॉक है. इस स्‍टॉक को 40mm अंडरबैरेल ग्रेनेड लॉन्‍चर के साथ आराम से इस्‍तेमाल किया जा सकता है.

Below Post Content Slide 4

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.