By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

उद्योगपति बीके बिड़ला का 99 वर्ष की उम्र में निधन,15 साल की उम्र में शुरू किया था बिजनेस

;

- sponsored -

देश के जाने माने उधोगपति बीके बिड़ला का 99 वर्ष की उम्र में बुधवार को निधन हो गया.मुम्बई में उन्होंने आख़िरी सांस ली. वें आदित्य बिड़ला ग्रुप के चेयरमैन कुमार मंगलम बिड़ला के दादा थे. बीके बिड़ला सेंचुरी टेक्‍सटाइल्‍स एंड इंडस्‍ट्रीज के चेयरमैन थे. बीके बिड़ला छोटी सी उम्र मात्र 15 वर्ष से ही बिजनस में सक्रिय हो गये थें.

[pro_ad_display_adzone id="49226"]

-sponsored-

 उद्योगपति बीके बिड़ला का 99 वर्ष की उम्र में निधन,15 साल की उम्र में शुरू किया था बिजनेस

सिटी पोस्ट लाइव- देश के जाने माने उधोगपति बीके बिड़ला का 99 वर्ष की उम्र में बुधवार को निधन हो गया. मुम्बई में उन्होंने आख़िरी सांस ली. वें आदित्य बिड़ला ग्रुप के चेयरमैन कुमार मंगलम बिड़ला के दादा थे. बीके बिड़ला सेंचुरी टेक्‍सटाइल्‍स एंड इंडस्‍ट्रीज के चेयरमैन थे. बीके बिड़ला छोटी सी उम्र मात्र 15 वर्ष से ही बिजनस में सक्रिय हो गये थें. उनका पूरा नाम बसंत कुमार बिड़ला था. उनका जन्म 15 जनवरी 1921 को हुआ था. वे घनश्याम दास बिडला के सबसे छोटे पुत्र थें. वे अपने मेहनत से केसोराम इंडस्ट्रीज के चेयरमैन बन गए.

इस पद पर रहते हुए उन्होंने कॉटन और पॉलिस्टर उद्योग को स्थापित किया, साथ ही सीमेंट उद्योग को खड़ा किया. केसोराम इंडस्ट्रीज के चेयरमैन रहते हुए उन्होंने कई व्‍यवसायिक पहलों में योगदान दिया था. विशेषकर कपास, पॉलिस्‍टर और नायलॉन यार्न, विस्‍कोस, रिफैक्‍टरी, पेपर, शिपिंग, टायरकोर्ड, ट्रांसपैरेंट पेपर, स्‍पन पाइप, सीमेंट, चाय, कॉफी, इलायची, केमिकल्‍स, प्‍लाईवुड, एमडीएफ बोर्ड जैसे क्षेत्रों में संभावनओं को तलाशा.

Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

1941 में बीके बिड़ला की शादी प्रसिद्ध एक्टिविस्ट और लेखक ब्रिजलाल बियानी की बेटी सरला से हुई थी. बीके के तीन बच्चे हैं, एक बेटा और दो बेटियां. बेटे का नाम आदित्य विक्रम बिड़ला और बेटी जयाश्री मोहता और मंजूश्री खेतान है. बीके बिड़ला ने एक बार कहा था मैं 90 साल की उम्र में रिटायर होना चाहता हूं. वह चाहते थे कि सभी कंपनियों की चेयरमैनशिप उनके पोते कुमार मंगलम बिड़ला ले. कहा जा सकता है कि इस प्रकार के प्रतिभा के धनी बहुत कम ही लोग हैं जिन्होंने अपनी मेहनत के बल पर इतने उंच्चे मुकाम को हासिल किया है.

                                                                                                                                          जे.पी.चंद्रा की रिपोर्ट

 

-sponsered-

;

-sponsored-

Comments are closed.