By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

पी चिदंबरम को सुप्रीम कोर्ट से थोड़ी राहत, सोमवार तक ED नहीं कर सकेगी गिरफ्तार

Above Post Content

- sponsored -

एक बार फिर से प्याज के बढ़ते दामों को लेकर आम जनता परेशान हो रही है। प्याज के बढ़ते दामों को लेकर अब सरकार ने भी समीक्षा शुरू कर दी है। पिछले एक महीनें में ही प्याज के दामों में 75 प्रतिशत तक की बढ़ोत्तरी हो चुकी है।

Below Featured Image

-sponsored-

पी चिदंबरम को सुप्रीम कोर्ट से थोड़ी राहत, सोमवार तक ED नहीं कर सकेगी गिरफ्तार

सिटी पोस्ट लाइव : एक बार फिर से प्याज के बढ़ते दामों को लेकर आम जनता परेशान हो रही है। प्याज के बढ़ते दामों को लेकर अब सरकार ने भी समीक्षा शुरू कर दी है। पिछले एक महीनें में ही प्याज के दामों में 75 प्रतिशत तक की बढ़ोत्तरी हो चुकी है। अगर हम दिल्ली की ही बात करें तो यहां प्याज के दाम 40 रुपये प्रति किलो तक पहुंच गया है। पिछले पांच दिनों में ही प्याज के दामों में 20 प्रतिशत की उछाल आई है।

दूसरे राज्यों में लगातार बारिश के कारण प्याज मंडियों में नहीं पहुंच पा रही है। आपको बता दें कि कर्नाटक, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश देश में प्रमुख प्याज उत्पादक राज्य हैं और यहां बाढ़ और बारिश की वजह से काफी फसल बर्बाद हो जाने से भी प्याज के दामों में बढ़ोत्तरी हुई है। अगर सरकार की तरफ से कुछ विशेष कदम नहीं उठाए गए तो इसकी कीमतों में और भी इजाफा होने की उम्मीद है। भारत में प्याज की सबसे बड़ी मंडी आजादपुर में प्याज के दामों में 10 रुपये तक कि बढ़ोत्तरी हो चुकी है।

Also Read
Inside Post 3rd Paragraph

-sponsored-

अभी नई फसल को आने में 2 महीनें से भी ज्यादा का वक्त है ऐसे में सरकान ने प्याज के स्टॉक को मार्केट में उतारने के आदेश दिए हैं। प्याज की कीमतों में बढ़ोत्तरी के अनुमान के कारण सरकार ने पहले ही लगभग 50 हजार टन प्याज को स्टॉक में रख लिया था। फिलहाल अभी यह सरकार पर ही निर्भर करेगा कि इस कंडीशन को किस प्रकार से संभालती है।

प्याज की कीमतों में बढ़ोत्तरी का एक मात्र कारण बारिश या बाढ़ नहीं है। इसका एक प्रमुख कारण इसकी उत्पादन क्षमता भी है। देश में लगभग हर कोई प्याज का सेवन करता है लेकिन प्याज के कुल उत्पादन का आधे से अधिक हिस्से का उत्पादन सिर्फ महाराष्ट्र, कर्नाटक और मध्य प्रदेश राज्य ही करते हैं। ऐसे में यह सोचने वाली बात है कि जिसका उपयोग पूरा देश करता है उसका उत्पादन कुछ ही राज्य करते हैं।

प्याज में बढ़ती कीमतों का सीधा असर आम जनता पर पहुंचता है। प्याज हमारे खान-पान का बेहद अहम हिस्सा है और लगभग हर व्यंजन में इसका प्रयोग होता है। अगर सरकार बफर स्टॉक को पूरी तरह से बाजार में लाने में कायम हो जाती है तो आम जनता को इससे जल्दी ही राहत मिल सकती है।

Below Post Content Slide 4

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.