By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

सांसद नुसरत के समर्थन में उतरीं साध्वी प्राची, फतवे पर कसा तंज

- sponsored -

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की फायरब्रांड नेता साध्वी प्राची, टीएमसी सांसद नुसरत के समर्थन में उतर आई हैं। साध्वी प्राची ने टीएमसी सांसद नुसरत जहां के मंगलसूत्र पहनने पर जारी किए गए मुस्लिम फतवे पर जोरदार तंज कसा है।

-sponsored-

सांसद नुसरत के समर्थन में उतरीं साध्वी प्राची, फतवे पर कसा जोरदार तंज

सिटी पोस्ट लाइव : भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की फायरब्रांड नेता साध्वी प्राची, टीएमसी सांसद नुसरत के समर्थन में उतर आई हैं। साध्वी प्राची ने टीएमसी सांसद नुसरत जहां के मंगलसूत्र पहनने पर जारी किए गए मुस्लिम फतवे पर जोरदार तंज कसा है। साध्वी प्राची ने कहा है कि यदि मुस्लिम महिलाएं किसी हिंदू से शादी कर लें और उसके बाद बिंदी-मंगलसूत्र पहने तो ये मुस्लिम मौलवी उसे हराम कह देते हैं, किन्तु अगर कोई मुस्लिम, लव जिहाद के बाद हिंदू युवती से शादी कर उसे बुर्का पहनाते हैं वह हराम नहीं है, वह जायज हो जाता है।

Also Read

-sponsored-

साध्वी प्राची ने कहा है कि अगर मुस्लिम मौलवियों को फतवे ही जारी करने थे तो तीन तलाक के समर्थन में करते, किन्तु उन्होंने ऐसा नहीं किया। बल्कि इन्होंने नुसरत जहां के विरुद्ध फतवा जारी कर दिया है कि उसने मंगलसूत्र क्यों पहना। साध्वी प्राची ने बेहद कड़े लहजे में कहा कि अगर यह मौलवी अभी नहीं सुधरे तो मुझे लगता है कि यह कुछ वक़्त में पूरे इस्लाम को भी हराम ठहरा देंगे। उल्लेखनीय है कि, टीएमसी सांसद नुसरत जहां मंगलवार को जब शपथ ग्रहण करने संसद पहुंचीं तो वह सत्र के दौरान पारंपर‍िक अंदाज में नजर आईं। नुसरत ने मांग पर सिंदूर, हाथों में मेहंदी और चूड़ा पहना हुआ था।

नकी यही फोटो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो गई थी, जिसके बाद देवबंदी उलेमा ने इस पर एतराज जाहिर करते हुए नुसरत जहां के खिलाफ फतवा जारी कर दिया था। बंगाल के बशीरहाट लोकसभा सीट से निर्वाचित टीएमसी सांसद के हिंदू लड़के से शादी करने और उसके बाद मंगलसूत्र पहनने पर देवबंदी उलेमा ने ऐतराज जाहिर किया। सहारनपुर स्थित इस्लामिक शिक्षण संस्थान दारुल उलूम देवबंद ने नुसरत जहां के मंगलसूत्र पहनने पर फतवा जारी किया है। नुसरत जहां ने हाल ही में कोलकाता के कारोबारी निखिल जैन से शादी की है। शादी के बाद सांसद नुसरत जहां संसद में शपथ ग्रहण करने पहुंची थीं, तब वे पारम्परिक हिन्दू वेशभूषा में नज़र आई थी, जो कुछ चरमपंथियों को नागवार गुजरा।

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.