By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

शहाबुद्दीन की मौत के बाद सियासी हलचल हुई तेज, राजद नेता कमरुल बारी ने दिया इस्तीफा

HTML Code here
;

- sponsored -

मोहम्मद शहाबुद्दीन की मौत के बाद से बिहार में सियासी हलचल तेज हो गयी है. वहीं, शहाबुद्दीन के शव को दिल्ली में दफ़नाने को लेकर भी मनमुटाव बना हुआ है. बता दें कि, शहाबुद्दीन के बेटे ओसामा साहब ने ट्विटर के जरिये लिखा था

[pro_ad_display_adzone id="49226"]

-sponsored-

सिटी पोस्ट लाइव: मोहम्मद शहाबुद्दीन की मौत के बाद से बिहार में सियासी हलचल तेज हो गयी है. वहीं, शहाबुद्दीन के शव को दिल्ली में दफ़नाने को लेकर भी मनमुटाव बना हुआ है. बता दें कि, शहाबुद्दीन के बेटे ओसामा साहब ने ट्विटर के जरिये लिखा था कि, अगर हमारे अब्बू डॉ शहाबुद्दीन साहब अपनी जन्मभूमि सिवान में दफन नहीं हुए तो,तेजस्वी यादव की राजनीति हमेशा के लिए ज़मीन में दफन हो जाएगी, इंशाअल्लाह!! इस तरह ओसामा साहब ने तेजस्वी यादव को खुली चुनौती दे दी थी.

जिसके बाद तेजस्वी यादव ने अपनी तरफ से सफाई देते हुए कहा था कि, उनके द्वारा सिवान में शहाबुद्दीन को दफ़नाने का हर एक प्रयास किया गया लेकिन कोविड प्रोटोकॉल हवाला देते हुए उन्हें इजाजत नहीं दी गयी. हालांकि, फिर ओसामा साहब द्वारा यह भी कहा गया था कि, उनका अकाउंट हैक हो गया है. वहीं, अब राजद के कुछ नेता और शहाबुद्दीन के समर्थक भी तेजस्वी यादव से नाराज चल रहे हैं और अब राजद से नेताओं के इस्तीफ़ा देने का सिलसिला शुरू हो गया है.

इसी क्रम में खबर सामने आई है कि नवादा जिला अध्यक्ष कमरुल बारी ने राजद से इस्तीफ़ा दे दिया है. साथ ही उन्होंने कहा कि, शहाबुद्दीन जैसे शख्सियत के लाश को उनके जन्मभूमि सिवान नहीं लौटा पाए तो हमलोगों के क्या अहमियत है. इस तरह नवादा जिलाध्यक्ष कमरुल बारी ने राजद से इस्तीफ़ा दे दिया है. बता दें कि, शहाबुद्दीन की मौत को उनके परिवार वाले हत्या मान रहे हैं और इस मामले में उनके परिवार वाले और अन्य नेताओं ने भी न्यायिक जांच की मांग की है.

;
HTML Code here

-sponsored-

Comments are closed.