By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

उपेन्द्र कुशवाहा को मिल गया UPA में शामिल होने का ऑफर, अहमद पटेल पहुंचे मिलने

Above Post Content

- sponsored -

Below Featured Image

-sponsored-

उपेन्द्र कुशवाहा को मिल गया UPA में शामिल होने का ऑफर, अहमद पटेल पहुंचे मिलने

सिटी पोस्ट लाइव : NDA से अलग हुए रालोसपा सुप्रीमो उपेन्द्र कुशवाहा को आज औपचारिकरूप से UPA ( महागठबंधन ) में शामिल होने का नयुता मिल गया है. आज कांग्रेस की तरफ से कांग्रेस के दिग्गज नेता सोनिया गांधी के सबसे करीबी नेता अहमद पटेल उपेन्द्र कुशवाहा के घर पहुंचे. सूत्रों के अनुसार अहमद पटेल UPA में शामिल होने का न्यौता देने उपेन्द्र कुशवाहा के घर पहुंचे हैं.

गौरतलब है कि शरद यादव और उपेन्द्र कुशवाहा दोनों चाहते थे कि लालू यादव और तेजस्वी यादव की जगह वो कांग्रेस के जरिये UPA में शामिल हों. शरद यादव लगातार कोशिश कर रहे थे राहुल गांधी के साथ उपेन्द्र कुशवाहा की बैठक कराने की कोशिश में जुटे थे. लेकिन चुनाव में व्यस्त होने की वजह से ये मीटिंग आजतक फिक्स नहीं हो पाई थी. उपेन्द्र कुशवाहा क्या करेगें, इसको लेकर संशय बना हुआ था. लेकिन आज अहमद पटेल के उपेन्द्र कुशवाहा के घर पहुँचने के बाद तस्वीर साफ़ हो गई है.अहमद पटेल के साथ उपेन्द्र कुशवाहा के घर अखिलेश सिंह भी पहुंचे हैं. बंद कमरे में बातचीत अभी चल रही है.गौरतलब है कि शुरू से ही कांग्रेस के राज्य सभा संसद अखिलेश सिंह कांग्रेस के जरिये उपेन्द्र कुशवाहा को UPA में लाने की कोशिश में जुटे हुए थे.

Also Read
Inside Post 3rd Paragraph

-sponsored-

सूत्रों के अनुसार आज अहमद पटेल ने उपेन्द्र कुशवाहा को UPA में शामिल होने का न्यौता राहुल गांधी की तरफ से दे दिया है. लेकिन अभीतक सीटों की संख्या को लेकर कोई बातचीत नहीं हुई है. सूत्रों के अनुसार उपेन्द्र कुशवाहा बिहार की 6 और झारखण्ड की एक सीट चाहते हैं.  उपेन्द्र कुशवाहा की पार्टी के नेता नागमणि जिन्होंने उपेन्द्र कुशवाहा को NDA छोड़ने के लिए सबसे ज्यादा जोर लगाया, उनके लिए और उनकी पत्नी के लिए रालोसपा की तरफ से जहानाबाद और चतरा लोक सभा सीट की मांग की जा रही है. इन्हीं दो सीटों को लेकर पेंच फंसा हुआ है. लेकिन नागमणि की अहम् भूमिका को देखते हुए लालू यादव की तरफ से उन्हें ये सीटें दी जा सकती हैं. वैसे लालू यादव के सबसे करीबी बालू कारोबारी सुभाष यादव चतरा से चुनाव प्रचार शुरू कर चुके हैं और सुरेन्द्र यादव जहानाबाद से ताल ठोक रहे हैं. लेकिन गठबंधन की राजनीति की मज़बूरी में वो बेदखल हो सकते हैं.

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.