By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

हार का इम्पैक्टः रालोसपा की सभी कमेटियों को भंग करने का एलान कर सकते हैं उपेन्द्र कुशवाहा’

;

- sponsored -

लोकसभा चुनाव में रालोसपा अध्यक्ष उपेन्द्र कुशवाहा अकेले ऐसे प्रत्याशी रहे जो दो-दो जगहों से चुनाव हारे। उपेन्द्र कुशवाहा काराकाट और उजियारपुर दोनों जगहों से चुनाव लड़े और दोनों जगहों से हार गये। उनकी पार्टी खाता भी नहीं खोल सकी। अब सूत्रों के हवाले से खबर है कि इस हार का बड़ा इम्पैक्ट पार्टी में दिखने जा रहा है।

-sponsored-

-sponsored-

हार का इम्पैक्टः रालोसपा की सभी कमेटियों को भंग करने का एलान कर सकते हैं उपेन्द्र कुशवाहा’

सिटी पोस्ट लाइवः लोकसभा चुनाव में रालोसपा अध्यक्ष उपेन्द्र कुशवाहा अकेले ऐसे प्रत्याशी रहे जो दो-दो जगहों से चुनाव हारे। उपेन्द्र कुशवाहा काराकाट और उजियारपुर दोनों जगहों से चुनाव लड़े और दोनों जगहों से हार गये। उनकी पार्टी खाता भी नहीं खोल सकी। अब सूत्रों के हवाले से खबर है कि इस हार का बड़ा इम्पैक्ट पार्टी में दिखने जा रहा है। उपेन्द्र कुशवाहा संगठन को नये सिरे से तैयार करने की रणनीति पर काम कर रहे हैं और आने वाले दिनों में वे रालोसपा की सभी कमेटियों को भंग कर सकते हैं।

रालोसपा सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक राष्ट्रीय नेतृत्व राज्य से लेकर राष्ट्रीय स्तर तक की सभी कमेटियों को भंग कर नए सिरे से संगठन बनाने की दिशा में आगे बढ़ने की तैयारी में हैं। आगामी सितंबर महीने में पार्टी का संगठनात्मक चुनाव भी होना है लिहाजा उसके लिए सदस्य्ता अभियान की शुरुआत भी होगी। रालोसपा इस महीने के आखिरी या जुलाई के पहले हफ्ते से सदस्यता अभियान की शुरुआत करेगा। सदस्यता अभियान के साथ-साथ कुशवाहा इस बात की रणनीति बना रहे हैं कि कैसे गांव के निचले स्तर तक वह अपनी पार्टी का एजेंडा पहुंचा सके।

Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

हाल के दिनों में उपेन्द्र कुशवाहा का कुनबा बिखरता हीं नजर आया है। न सिर्फ उनकी पार्टी के नेता उन्हें छोड़कर गये हैं बल्कि उनपर कई गंभीर आरोप भी लगाये हैं। बिहार में करारी हार के बाद अपने बचे-खुचे कुनबे को बचाये रखना उनके लिए बड़ी चुनौती है जाहिर है उपेन्द्र कुशवाहा अब इस प्रयास में जुट गये हैं।

-sponsered-

;

-sponsored-

Comments are closed.