By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

अबकी बड़का फेरा में फंस गये हैं भोजपुरी गायक, ‘पीके’ को छोड़कर खेसारी लाल के पीछे पड़े ‘नीरज’

;

- sponsored -

अपने गानों और बयानों से उपजे विवादों के बाद अक्सर मुश्किलों में पड़ने वाले भोजपुरी अभिनेता और गायक खेसारी लाल यादव इस बार बड़ी मुश्किल में फंस सकते हैं क्योंकि इस बार उन्होंने अपने गाने में बिहार सरकार की शराबबंदी मिशन का मजाक उड़ाया है। दरअसल खेसारी लाल ने अपने गाने में शराबबंदी के बावजूद शराब पीने के टिप्स भी दिया है। दरअसल खेसारी लाल का एक नया गाना आया है जिसके बोल हैं-‘रिस्क उठाएंगे, छपरा जाएंगे और ब्लैक में दारू मंगाएंगे’।

-sponsored-

-sponsored-

अबकी बड़का फेरा में फंस गये हैं भोजपुरी गायक, ‘पीके’ को छोड़कर खेसारी लाल के पीछे पड़े ‘नीरज’

सिटी पोस्ट लाइवः अपने गानों और बयानों से उपजे विवादों के बाद अक्सर मुश्किलों में पड़ने वाले भोजपुरी अभिनेता और गायक खेसारी लाल यादव इस बार बड़ी मुश्किल में फंस सकते हैं क्योंकि इस बार उन्होंने अपने गाने में बिहार सरकार की शराबबंदी मिशन का मजाक उड़ाया है। दरअसल खेसारी लाल ने अपने गाने में शराबबंदी के बावजूद शराब पीने के टिप्स भी दिया है। दरअसल खेसारी लाल का एक नया गाना आया है जिसके बोल हैं-‘रिस्क उठाएंगे, छपरा जाएंगे और ब्लैक में दारू मंगाएंगे’।

इस गाने के बाद खेसारी लाल एक बार फिर विवादों में हैं और उनकी मुश्किलें बढ़नी शुरू हो गयी है। जेडीयू प्रवक्ता नीरज कुमार ने इस गाने पर सख्त आपत्ति जतायी है और खेसारी लाल को सख्त लहजे में चेताया भी है कि बिहार की शराबबंदी कानून का मखौल न उड़ाएं अन्यथा कानून के लपेटे में आ जाएंगे। सिटी पोस्ट लाइव के एडिटर इन चीफ श्रीकांत प्रत्यूष से बातचीत करते हुए नीरज ने कहा कि खेसारी लाल ने केवल सरकार का मखौल नहीं उड़ाया है बल्कि बिहार करोड़ के पांच करोड़ लोगों ने मानव श्रृंखला बनायी थी शराबबंदी के लिए। विधानमंडल ने सर्व सम्मत संकल्प लिया और सक्षम कानून बनाया गया इन तमाम चीजों का मजाक उड़ाया है।

Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

उन्होंने कहा कि खेसारी लाल सुपारी लेकर ऐसे गाने गा रहे हैं और शराबबंदी कानून का मजाक उड़ा रहे हैं। खेसारी लाल ने जघन्य अपराध किया है और खेसारी लाल सुपारी लेकर ऐसे गाने गा रहे हैं तो सरकार के पास भी कानून की सुपारी है। पैसे के लिए ऐसे गाने गा रहे हैं। धन महत्वपूर्ण नहीं होता सिर्फ पैसे के लिए काम करने वाला लोगों की साख समाज में नहीं होती। उन्होंने कहा कि अगर कानून इजाजत देगा तो कार्रवाई होगी क्योंकि शराबबंदी से लोगों का जीवन बदला है और खेसारी ने विधानमंडल की भावना, मानव श्रृंखला का अपमान किया है। नीरज ने लालू का नाम लिये बिना उन पर हमला बोला और कहा कि वे सजायाफ्ता लालू के इशारे पर यह गाने गा रहे हैं। इस गाने से खेसारी की मंशा प्रकट की हो गयी है वे विरोधियों के इशारे पर ऐसे गाने गा रहे हैं।

-sponsered-

;

-sponsored-

Comments are closed.