By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

चुनाव को लेकर आयोग का बड़ा फैसला, बिहार में एक लाख होंगे बूथ

;

- sponsored -

बिहार में बढ़ते कोरोना के प्रकोप के बीच विधानसभा चुनाव की तैयारी में चुनाव आयोग जोरशोर से जुटा है.कोरोना काल में को लेकर चुनाव आयोग बेहद गंभीर है और कई तरह के इंतजाम में लगा है.बिहार विधानसभा चुनाव में भारत निर्वाचन आयोग ने 33,804 नये सहायक बूथों के गठन की स्वीकृति दे है.

[pro_ad_display_adzone id="49226"]

-sponsored-

सिटी पोस्ट लाइव : बिहार में बढ़ते कोरोना के प्रकोप के बीच विधानसभा चुनाव की तैयारी में चुनाव आयोग जोरशोर से जुटा है.कोरोना काल में को लेकर चुनाव आयोग बेहद गंभीर है और कई तरह के इंतजाम में लगा है. बिहार विधानसभा चुनाव में भारत निर्वाचन आयोग ने 33,804 नये सहायक बूथों के गठन की स्वीकृति दे है. अब राज्य में मतदाताओं को विधानसभा चुनाव में कुल 106527 बूथों पर मतदान करने का मौका मिलेगा. आयोग ने जिलों द्वारा प्रति हजार मतदाताओं पर एक बूथ के गठन की स्वीकृति दे दी.

चुनाव आयोग ने कहा है कि नये सहायक बूथों में 3233 ऐसे बूथ हैं जिनकी स्थापना दो किमी के अंदर हो जिससे मतदाता आसानी से जाकर वहां पर मतदान कर सकें. निर्वाचन आयोग ने राज्य की सभी 38 जिलों की 243 विधानसभा क्षेत्रों में सहायक बूथ बनाने की स्वीकृति दी है. अब पश्चिम चंपारण जिले की नौ विस क्षेत्रों में कुल 1159 नये सहायक बूथों के गठन होने के बाद जिले में कुल बूथों की संख्या बढ़कर 3662 हो जायेगी. पूर्वी चंपारण जिले की 12 विस क्षेत्रों में बूथों की संख्या में 1686 का इजाफा हो जायेगा.

गौरतलब है कि महागठबंधन के घटक दल तो कोरोना काल में चुनाव टालने की मांग कर ही रहे हैं साथ ही NDA के सहयोगी दल एलजेपी नेभी कोरोना के संक्रमण के खतरे को देखते हुए चुनाव को आगे बढाने की मांग कर रही है. लेकिन जेडीयू और बीजेपी दोनों दल समय से चुनाव कराने के चुनाव आयोग के फैसले का स्वागत किया है.सूत्रों के अनुसार विधान सभा चुनाव एक फेज में कराने की मांग की है.लेकिन चुनाव आयोग इसे दो या फिर तीन फेज में करवा सकता है.एक फेज में भी हो जाए तो कोई आश्चर्य नहीं.

-sponsered-

;

-sponsored-

Comments are closed.