By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

जदयू ने कहा-2020 बिहार विधानसभा चुनाव विकास के एजेंडे पर ही लड़ा जाएगा

;

- sponsored -

जदयू प्रवक्ता राजीव रंजन प्रसाद ने कहा कि बिहार के 2020 विधानसभा चुनाव विकास के एजेंडे पर ही लड़ा जाएगा। क्योंकि बिहार ने जाति सम्प्रदाय एवं धर्म की राजनीति को नकार कर न्याय के साथ विकास  की राह पर चलने का निर्णय डेढ़ दशक पूर्व ही ले लिया था।

[pro_ad_display_adzone id="49226"]

-sponsored-

जदयू ने कहा-2020 बिहार विधानसभा चुनाव विकास के एजेंडे पर ही लड़ा जाएगा

सिटी पोस्ट लाइव : जदयू प्रवक्ता राजीव रंजन प्रसाद ने कहा कि बिहार के 2020 विधानसभा चुनाव विकास के एजेंडे पर ही लड़ा जाएगा। क्योंकि बिहार ने जाति सम्प्रदाय एवं धर्म की राजनीति को नकार कर न्याय के साथ विकास  की राह पर चलने का निर्णय डेढ़ दशक पूर्व ही ले लिया था। जिस समय बिहार के लोकप्रिय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को राज्य की जनता ने सत्ता की बागडोर सौंपी थी,उस समय एक परिवार के शासन से जनता त्राहिमाम कर रही थी, खजाना खाली था और जातिवाद अपराध एवं भ्रष्टाचार चरम पर था।

प्रसाद ने कहा कि 2005 में जब बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को काँटों की सेज मिली यह आसान चुनौती नहीं थी कि बिहार को पटरी पर लाया जा सके। लेकिन इस मुश्किल चुनौती को नीतीश जी ने अदम्य इक्षा शक्ति से अवसर में  बदल दिया। कृषि आधारभूत संरचना, कमजोर वर्गों को न्याय के साथ विकास के जरिए मुख्यधारा में जोड़ने, बिजली गाँव गाँव पहुँचाने, सात निश्चय, शराबबंदी, जल जीवन हरियाली एवं ऐसे अनेक निर्णयों के जरिए बिहार को सफलता की उन ऊँचाइयों पर पहुँचा दिया, जिसकी हम कल्पनातक नहीं कर सकते थे।

Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

राजीव प्रसाद ने कहा कि एक तरफ राज्य लगातार जीडीपीं ग्रोथ रेट दो अंको में दर्ज कर रहा है, वहीं पर्यावरण संकट को नीतीश जी ने पहचाना और इससे निबटने के लिए लगभग पच्चीस हजार करोड़ रुपए की योजनाएँ जल जीवन हरियाली अभियान के अंतर्गत स्वीकृत करके जिलों में हरियाली यात्रा के जरिए जिलों में जाकर शिलान्यास कर दिया। जिससे विकास एवं पर्यावरण का संतुलन अगले तीन वर्षों में सुनिश्चहित किया जाएगा।

न्होंने  कहा कि महिला आरक्षण, दलित एवं अति पिछड़ी जातियोंके लिए अनेक कल्याणकारी योजनाएँ, दलित एवं अति पिछड़े उध्यमियों के लिए योजनाओं के साथ अल्पसंख्यक समुदाय की सुरक्षा एवं कल्याण के लिए अनेक कार्यक्रमों के साथ बिहार ने न्याय के साथ विकास का जो मोडेल रखाहै,उसका मुकाबला राजद एवं कांग्रेस का परिवारवादी मोडेल करने में सक्षम नहीं है।

;

-sponsored-

Comments are closed.