By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

CM नीतीश के कार्यक्रम का BJP के ‘बायकॉट’ को लेकर घमाशान

JDU ने कहा- भागने से काम नहीं चलेगा, इतने वर्षों से जीतकर क्या कर रहे हैं बीजेपी के नेता, दें जबाब ?

Above Post Content

- sponsored -

Below Featured Image

-sponsored-

CM नीतीश के कार्यक्रम का BJP के ‘बायकॉट’ को लेकर घमाशान

सिटी पोस्ट लाइव : बिहार की राजधानी पटना में हुए जलजमाव को लेकर बीजेपी-जेडीयू नेताओं के बीच जारी तल्खी कम होने का नाम नहीं ले रहा. इसका प्रभाव विजयादशमी के दिन गांधी मैदान में साफ़ दिखा. पहलीबार इस रावन बढ़ समारोह से बीजेपी के नेताओं ने दुरी बना ली. सबसे ख़ास बात ये कि हमेशा मुख्यमंत्री के साथ खड़े रहनेवाले उप-मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने भी कार्यक्रम से दुरी बना ली,जाहिर है मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के इस कार्यक्रम का बीजेपी ने बहिष्कार केन्द्रीय नेत्रित्व के ईशारे पर किया है.

गांधी मैदान में रावण बढ़ कार्यक्रम में बीजेपी के नेताओं के शामिल नहीं होने पर जब जेडीयू नेताओं ने सवाल-जबाब शुरू किया तो बात और भी बिगड़ गई.जेडीयू के प्रवक्ता राजीव रंजन  ने बीजेपी नेताओं से सवाल किया कि बीजेपी नेता जनता को जवाब दें कि उन्होंने रावण बढ़ कार्यक्रम से क्यों दुरी बनाई? जेडीयू के पूर्व प्रवक्ता डॉक्टर अजय आलोक ने भी बीजेपी पर तंज कास दिया. उन्होंने ट्विट किया कि क्या बीजेपी के नेता रावण बढ़ नहीं करना चाहते हैं?

Also Read
Inside Post 3rd Paragraph

-sponsored-

राजीव रंजन ने कहा कि कोई भी बीजेपी नेता क्यों नहीं पंहुचा इसका जवाब पार्टी को देना चाहिए. उन्होंने कहा कि जनता के सवाल से भागने से काम नहीं चलेगा. अगर वेकार्यक्रम का बहिष्कार कर किसी और को कठघरे में खड़ा करना चाहते हैं तो जनता इन सब बातों को समझती है. जेडीयू प्रवक्ता ने कहा कि यह बीजेपी का पलायनवादी नजरिया है. उसको जनता के सवालों का सामना करना चाहिए कि इतने वर्षों से जीतकर क्या कर रहे हैं?

जब बीजेपी-जेडीयू के नेता आपस में भिड़े तो विपक्ष को भी मौका मिल गया. कांग्रेस ने जेडीयू के सुर में सुर मिलाते हुए बीजेपी से  सवाल-जबाब शुरू कर दिया है. पार्टी के प्रवक्ता राजेश राठौर ने कहा कि बीजेपी ने खास रणनीति के तहत सीएम बायकॉट किया है. उन्होंने कहा कि डिप्टी सीएम के पटना में रहते हुए भी कार्यक्रम में नहीं पहुंचना बड़ी बात है. यही नहीं मेयर से लेकर विधायकों ने भी दूरी बना ली. जाहिर है सीएम नीतीश के बायकॉट के लिए ऊपर से आदेश मिला होगा.

आरजेडी के वरिष्ठ नेता शिवानंद तिवारी ने भी इसे बीजेपी की विशेष रणनीति करार देते हुए कहा कि सुशील मोदी नहीं पहुचेंगे इसकी कल्पना नहीं की जा सकती. दरअसल, सीएम नीतीश की तरह पीएम नरेंद्र मोदी सारा हिसाब रखते हैं. लोकसभा में नीतीश की जरूरत थी, अब बीजेपी को जरूरत नहीं है.शिवानंद तिवारी ने कहा कि पीएम मोदी सीएम नीतीश के द्वारा निमंत्रण देकर भोज देने से मना कर देने के अपमान को नहीं भूले हैं.

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.