By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

भाजपा यात्रा निकाले या विमान से लैंड करे, जनता नहीं देगी आर्शीवाद : झाविमो

Above Post Content

- sponsored -

झारखंड विकास मोर्चा (झाविमो) के महासचिव खालीद खलील ने कहा है कि भाजपा ने पांच साल तक जितने राजनीतिक पाप किये हैं, वह अक्षम्य है। चुनाव की आहट के साथ भाजपा जन आर्शीवाद यात्रा निकाले या विमान से लैंड करे, जनता इन्हें दुबारा आर्शीवाद देने वाली नहीं वाली है।

Below Featured Image

-sponsored-

भाजपा यात्रा निकाले या विमान से लैंड करे, जनता नहीं देगी आर्शीवाद : झाविमो

सिटी पोस्ट लाइव, रांची: झारखंड विकास मोर्चा (झाविमोके महासचिव खालीद खलील ने कहा है कि भाजपा ने पांच साल तक जितने राजनीतिक पाप किये हैं, वह अक्षम्य है। चुनाव की आहट के साथ भाजपा जन आर्शीवाद यात्रा निकाले या विमान से लैंड करेजनता इन्हें दुबारा आर्शीवाद देने वाली नहीं वाली है। खलील ने गुरूवार को कहा कि भाजपा के नारे से जब सरकार के ही वरिष्ठ मंत्री असहमत हों, तो जनता के सहमत होने का प्रश्न ही कहां पैदा होता है। उन्होंने कहा कि जीरो टॉलरेंस का झूठा ढिंढोरा पीटने वाले मुख्यमंत्री रघुवर दास के दावों की पोल उनके ही गृह नगर के सांसद विद्युतवरण महतो ही यह कहकर खोल रहे हैं कि सरकारी कार्यालयों में बिना पैसे के कोई काम नहीं होता है। भ्रष्टाचार कुत्ते की दुम हैयह कभी सीधी नहीं हो सकती है। उन्होंने कहा कि दरअसल इस सरकार से जनता पूरी तरह उब चुकी है। जनता आगामी विधानसभा चुनाव में भाजपा को सबक सिखाने के लिए पूरी तरह बेताब है। वास्तव में राज्य सरकार का गिनीज बुक में नाम तो झूठ बोलने का कीर्तिमान स्थापित करने को लेकर दर्ज होना चाहिए। उन्होंने कहा कि अंततः दिलो-दिमाग में चल रही बात जुबां पर आ ही जाती है। खूंटी में सीएम द्वारा झारखंड को पहला आदिवासी मुक्त राज्य बनाने की बात कहना अनायास नहीं है, बल्कि सरकार की सोच का परिचायक है। रघुवर सरकार आदिवासीदलितअल्पसंख्यक की हितकर होने का केवल ढ़ोंग रचती रही है। पूरे प्रदेश में भय और आतंक का माहौल है। बच्चा चोरी की अफवाह व मॉब लिंचिंग से राज्य सुलग रहा है। केवल 18 सितम्बर को बच्चा चोरी की अफवाह में संथाल परगना में सात स्थानों पर हिंसक झड़प हुई। इसमें एक वृद्ध की मौत हो जाती है और पुलिस-ग्रामीण के बीच भिडंत हो जाती है। यह एक उदाहरण मात्र है। आये दिन ऐसे मामले हो रहे हैं। वहीं तबरेज अंसारी हत्या मामले में भी झारखंड सरकार का चेहरा बेनकाब हुआ है कि कैसे पुलिस ने गुमराह करने का प्रयास किया।

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.