By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

‘बीजेपी ने बदला नारा, पहले कहती रही मंदिर वहीं बनाएंगे अब कह रही मंदिर बगल में बनाएंगे’

- sponsored -

राम मंदिर को लेकर देश की सियासत में पहले भी उबाल रहा है लेकिन अब राजनीति केन्द्र सरकार की उस अर्जी पर गरमा गयी है जो सुप्रीम कोर्ट में सरकार ने दी है और कोर्ट से गुजारिश की है कि विवादित जमीन को छोड़कर बाकी मंदिर निर्माण के लिए दी जाए। इस अर्जी को लेकर अब राज्यसभा सांसद मीसा भारती ने भी बीजेपी पर निशाना साधा है। मीसा भारती ने ट्वीट किया और लिखा कि-‘ दशकों तक बोलते आए कि मंदिर वहीं बनाएंगे

Below Featured Image

-sponsored-

‘बीजेपी ने बदला नारा, पहले कहती रही मंदिर वहीं बनाएंगे अब कह रही मंदिर बगल में बनाएंगे’

सिटी पोस्ट लाइवः राम मंदिर को लेकर देश की सियासत में पहले भी उबाल रहा है लेकिन अब राजनीति केन्द्र सरकार की उस अर्जी पर गरमा गयी है जो सुप्रीम कोर्ट में सरकार ने दी है और कोर्ट से गुजारिश की है कि विवादित जमीन को छोड़कर बाकी मंदिर निर्माण के लिए दी जाए। इस अर्जी को लेकर अब राज्यसभा सांसद मीसा भारती ने भी बीजेपी पर निशाना साधा है। मीसा भारती ने ट्वीट किया और लिखा कि-‘ दशकों तक बोलते आए कि मंदिर वहीं बनाएंगे, मंदिर वहीं बनाएंगे! अब अपने नारे को बदलकर मंदिर बगल में बनाएंगे। करने की तैयारी हो रही है। जब मंदिर गैर विवादित स्थल पर हीं बनाना था तो जबरदस्ती विवाद पैदा कर उत्पात मचाने की क्या जरूरत थी।’ आपको बता दें कि केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर कहा है कि अयोध्या में जो गैर विवादित स्थल है, उसे रामजन्मभूमि न्यास को वापस सौंप दिया जाए.

-sponsored-

Also Read

सरकार की ओर से कहा गया है कि जिस भूमि पर रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद को लेकर विवाद है वह सुप्रीम कोर्ट अपने पास रखे.सरकार की ओर से मंशा जाहिर की गई है कि गैर विवादित जमीन रामजन्मभूमि न्यास को सौंपी जाए, ताकि उस हिस्से पर निर्माण शुरू हो सके. बता दें कि आज ही सुप्रीम कोर्ट में इस मामले को लेकर सुनवाई होनी थी, लेकिन जस्टिस बोबडे के छुट्टी पर जाने की वजह से सुनवाई टल गई.मोदी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से कहा है कि अयोध्या में हिंदू पक्षकारों को जो हिस्सा दिया गया है, वह रामजन्मभूमि न्यास को दे दिया जाए. जबकि 2.77 एकड़ भूमि का कुछ हिस्सा भारत सरकार को लौटा दिया जाए.

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.