By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

जेडीयू में ‘पीके’ पर तकरार, केसी त्यागी ने कहा ममता बनर्जी के लिए काम करना गलत नहीं’

;

- sponsored -

लंबे वक्त तक जेडीयू और बीजेपी में भिड़ंत चलती रही। मंत्रिमंडल विवाद फिर बाद में गिरिराज सिंह के ट्वीट पर आपस में ये दोनो दल आपस में भिड़ते रहे। एनडीए इस कलह से उबरा हीं था कि अब जेडीयू के अंदरखानें तकरार छिड़ गयी है। दरअसल यह तकरार प्रशांत किशोर को लेकर छिड़ी है।

-sponsored-

-sponsored-

जेडीयू में ‘पीके’ पर तकरार, केसी त्यागी ने कहा ममता बनर्जी के लिए काम करना गलत नहीं’

सिटी पोस्ट लाइवः लंबे वक्त तक जेडीयू और बीजेपी में भिड़ंत चलती रही। मंत्रिमंडल विवाद फिर बाद में गिरिराज सिंह के ट्वीट पर आपस में ये दोनो दल आपस में भिड़ते रहे। एनडीए इस कलह से उबरा हीं था कि अब जेडीयू के अंदरखानें तकरार छिड़ गयी है। दरअसल यह तकरार प्रशांत किशोर को लेकर छिड़ी है। चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर की एक और पहचान यह भी है कि वे जेडीयू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष भी हैं लेकिन अक्सर वे कुछ ऐसा कर जाते हैं जिससे यह कहा जाने लगता है कि पीके रणनीतिकार से नेता वाली भूमिका में नहीं आ रहे हैं।

कभी बयान देकर वे अपनी हीं पार्टी के लिए असहज स्थिति पैदा कर देते हैं तो कभी अपने सहयोगी दल के कट्टर राजनीतिक दुश्मन से बात-मुलाकात कर पार्टी की मुश्किलें बढ़ा देते हैं। प्रशांत किशोर ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से मुलाकात की है और माना जा रहा है कि वे विधानसभा चुनाव में उनके रणनीतिकार की भूमिका में हांेगे। इसे लेकर अब जेडीयू के अंदर हीं तकरार मच गयी है।

Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

एक ओर जहां पार्टी के कुछ प्रवक्ता यह कहते नजर आए कि ‘पीके’ पार्टी से इजाजत लिये बगैर ऐसा नहीं कर सकते क्येांकि वे पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हैं और उन्हें पार्टी लाइन पर काम करना चाहिए जबकि दूसरी तरफ जेडीयू के राष्ट्रीय महासचिव केसी त्यागी ने अब यह कहा है कि पीके अगर ममता बनर्जी के लिए रणनीति बनाते हैं तो इसमें कुछ भी गलत नहीं है। हांलाकि बीजेपी की इस पूरे मामले पर कोई प्रतिक्रिया नहीं आयी है।

-sponsered-

;

-sponsored-

Comments are closed.