By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

सीएम नीतीश कुमार उतरें स्वास्थ्य मंत्री के बचाव में,विपक्ष ने किया वॉक आउट

Above Post Content

- sponsored -

बिहार में चमकी बुखार को लेकर विधानसभा के अंदर और बाहर राजनीतिक घमासान जारी है. विपक्ष लगातार हमलावर है. खबरें तो यहाँ तक आ रही थी कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार स्वास्थ्यमंत्री मंगल पांडेय का इस्तीफा मांग रहे हैं. लेकिन बीजेपी-जेडीयू के रिश्तों में दरार के बीच आज सत्ताधारी दल के लिए एक सुकून भरा पल भी सामने आया. दरअसल बिहार विधानसभा में कार्यवाही के दौरान जब स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे अपना पक्ष रख रहे थे तो विपक्ष ने जोरदार हंगामा किया

Below Featured Image

-sponsored-

सीएम नीतीश कुमार उतरें स्वास्थ्य मंत्री के बचाव में,विपक्ष ने किया वॉक आउट

सिटी पोस्ट लाइव-बिहार में चमकी बुखार को लेकर विधानसभा के अंदर और बाहर राजनीतिक घमासान जारी है. विपक्ष लगातार हमलावर है. खबरें तो यहाँ तक आ रही थी कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार स्वास्थ्यमंत्री मंगल पांडेय का इस्तीफा मांग रहे हैं. लेकिन बीजेपी-जेडीयू के रिश्तों में दरार के बीच आज सत्ताधारी दल के लिए एक सुकून भरा पल भी सामने आया. दरअसल बिहार विधानसभा में कार्यवाही के दौरान जब स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे अपना पक्ष रख रहे थे तो विपक्ष ने जोरदार हंगामा किया. विरोधी दलों के नेता सीएम नीतीश कुमार से जवाब देने की मांग करने लगे और मंगल पांडे को इंटरप्ट करते रहे.

लेकिन इसी बीच सीएम नीतीश कुमार खुद अपने स्थान पर खड़े हो गए. फिर मंगल पांडे अपनी जगह बैठ गए. सीएम नीतीश ने विपक्ष को आश्वासन दिया कि पहले इनका पक्ष सुन लीजिए फिर मैं भी बोलूंगा. इस प्रकरण के बाद थोड़ी देर विपक्ष चुप हो गया, फिर मंगल पांडे खड़े हो गए और अपना जवाब देने लगे.हालांकि इसके बाद विपक्ष ने मंगल पांडे का जवाब नहीं सुना और वॉक आउट कर गए. बावजूद इसके मंगल पांडे ने सरकार के अब तक किए गए कार्यों को विस्तार से बताया.

Also Read

-sponsored-

मालूम हो कि 25 जून को इस तरह की खबरें मीडिया में आई थी कि बिहार के सीएम नीतीश कुमार प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे का इस्तीफा मांग रहे हैं. हालांकि बीजेपी सूत्रों ने भी स्पष्ट संकेत दिया था कि वह इस्तीफा नहीं देंगे. इस खबर के बाद बीजेपी और जेडीयू के बीच तल्खी दिखने लगी थी. बता दें कि इस चमकी बुखार के कारण अब तक लगभग 170 से अधिक मासूमों की मौतें हो चुकी है. मुजफ्फपुर के एसकेएमसीच अस्पताल में सबसे अधिक बच्चों की मौत हुई है.
       जे.पी.चंद्रा की रिपोर्ट

Below Post Content Slide 4

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.