By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

जागी CM नीतीश कुमार की अंतरात्मा ! डिप्टी CM तारकिशोर प्रसाद ने दी तेजस्वी के आरोपों पर सफाई

HTML Code here
;

- sponsored -

बिहार के नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने बिहार के डिप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद पर ‘हर घर नल का जल’ योजना में भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए नीतीश सरकार को पूरी तरह घेर लिया है। तेजस्वी यादव ने सीएम नीतीश कुमार को अपनी अंतरात्मा जगाने को भी कहा । शायद लगता है सीएम ने उनकी बात सुन ली है और डिप्टी सीएम की सफाई सामने आयी है।

-sponsored-

सिटी पोस्ट लाइव : बिहार के नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने बिहार के डिप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद पर ‘हर घर नल का जल’ योजना में भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए नीतीश सरकार को पूरी तरह घेर लिया है। तेजस्वी यादव ने सीएम नीतीश कुमार को अपनी अंतरात्मा जगाने को भी कहा । शायद लगता है सीएम ने उनकी बात सुन ली है और डिप्टी सीएम की सफाई सामने आयी है। बताएं कि सीएम नीतीश कुमार के ड्रीम प्रोजेक्ट नल जल योजना में डिप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद के साले, बहू और रिश्तेदारों पर योजना में ठेका लेने का आरोप लगाया गया है।

डिप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद ने अपने उपर लगे आरोपों का जवाब दिया है। हालांकि वे खुद सामने नहीं आए हैं। प्रेस विज्ञप्ति के जरिये जवाब जारी करते हुए उन्होंने कहा कि ‘हर घर, नल का जल’ योजना की सफलता से घबराकर विपक्ष अनर्गल प्रलाप कर रहा है। जिस कंपनी को टेंडर देने की बात की जा रही है उन कंपनियों और प्रतिष्ठानों में मेरे परिवार या ससुराल का कोई सदस्य शामिल नहीं है।

डिप्टी सीएम ने कहा कि कटिहार जिला के 4 वार्ड में सिर्फ चार स्कीम का काम मेरे परिवार की सदस्य पूजा कुमारी को मिला, जिसका कॉन्ट्रैक्ट सरकार के नियमानुसार पीडब्ल्यूडी कोड निविदा प्रक्रिया एवं नियमों के मुताबिक 2019 में किया गया है और संबंधित क्षेत्र में जलापूर्ति भी किया जा रहा है। डिप्टी सीएम ने कहा है कि यह सभी कार्य मेरे उप मुख्यमंत्री बनने के पहले पूरे किए जा चुके थे इसलिए मुझ पर यह आरोप गलत है कि मैंने डिप्टी सीएम रहते हुए प्रभाव का इस्तेमाल किया।

Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

वहीं डिप्टी सीएम ने तेजस्वी यादव पर हमला बोलते हुए कहा कि नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव पर 5 करोड़ लेकर टिकट नहीं देने के मामले में कोर्ट के निर्णय के बाद दर्ज हुई प्राथमिकी से जनता का ध्यान भटकाने का प्रयास आरजेडी के नेता कर रहे हैं।

गौरतलब है कि साल 2017 में जब आरजेडी के साथ जेडीयू का गठबंधन था और सीएम नीतीश कुमार और डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव थे। उस वक्त तेजस्वी यादव पर भ्रष्टाचार के आरोप लगे थे। इसके बाद सीएम नीतीश कुमार ने उन्हें जनता की अदालत में जाकर सफाई पेश करने को कहा था यानि सीएम ने डिप्टी सीएम का इस्तीफा मांग दिया था लेकिन लालू यादव अड़ गये थे और फिर सीएम नीतीश कुमार ने खुद जाकर इस्तीफा राज्यपाल को सौंप दिया था और कहा था वे ‘अंतरात्मा की आवाज’ पर इस्तीफा दे रहे हैं। तब से विपक्ष अक्सर इस जुमले के साथ सीएम नीतीश कुमार पर हमला बोलता रहा है।

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.