By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

निगरानी के निशाने पर पूर्व विधानसभा अध्यक्ष सदानंद सिंह, नियुक्ति में घोटाले को लेकर चार्जशीट दायर

- sponsored -

बिहार विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष सदानंद सिंह निगरानी के निशाने पर आ गये हैं। कांग्रेस विधायक दल के नेता और पूर्व विधानसभा अध्यक्ष सदानंद सिंह की मुश्किलें बढ़ गयी है क्योंकि नियुक्ति में घोटाले को लेकर अब निगरानी विभाग ने उनके खिलाफ चार्जशीट दायर कर दी है।

-sponsored-

निगरानी के निशाने पर पूर्व विधानसभा अध्यक्ष सदानंद सिंह, नियुक्ति में घोटाले को लेकर चार्जशीट दायर

सिटी पोस्ट लाइव : बिहार विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष सदानंद सिंह निगरानी के निशाने पर आ गये हैं। कांग्रेस विधायक दल के नेता और पूर्व विधानसभा अध्यक्ष सदानंद सिंह की मुश्किलें बढ़ गयी है क्योंकि नियुक्ति में घोटाले को लेकर अब निगरानी विभाग ने उनके खिलाफ चार्जशीट दायर कर दी है। सदानंद सिंह सहित 41 लोगों पर नियुक्ति घोटाले में संलिप्त होने का आरोप है और इस मामले सदानंद सिंह सहित 41 लोगों के खिलाफ निगरानी ने चार्जशीट दायर की है।निगरानी विभाग की जांच के मुताबिक नियुक्ति के लिए शुरू में तैयार की गयी नियमावली में कहीं साक्षात्कार लेने का जिक्र नहीं था, लेकिन रिक्त पदों से कई गुना अधिक उम्मीदवारों को साक्षात्कार के लिए बुलावा भेजा गया.

फिर मनमाने तरीके से चयन कमेटी का गठन कर लिया गया. इस चयन समिति में उन लोगों को मेंबर बनाया गया जिनके सगे संबंधियों ने नौकरी के लिए आवेदन दिया था. निगरानी का आरोप ये भी है कि घोटाला कर नियुक्‍त हुए कर्मचारियों की उत्तर पुस्तिकाएं भी बदली दी गयी थी. निगरानी के मुताबिक तत्‍कालीन विधानसभा अध्‍यक्ष सदानंद सिंह पर भी आरोप है कि उन्‍होंने अपने रिश्तेदार संजय कुमार की नियुक्ति के लिए गड़बड़ी की.

Also Read

-sponsored-

निगरानी विभाग के मुताबिक विधानसभा में कर्मचारियों की नियुक्ति में बड़े पैमाने पर गड़बड़ी की गयी थी. मामला तकरीबन डेढ़ दशक पहले का 2000 से 2005 के बीच सदानंद सिंह विधानसभा अध्यक्ष थे, उसी दौरान विधानसभा में बड़े पैमाने पर नियुक्ति की गयी. इन नियुक्ति में खूब गड़बड़ी हुई. विधानसभा अध्यक्ष से लेकर वहां के अधिकारियों कर्मचारियों ने अपने रिश्तेदारों को नौकरी बांट दी. तमाम नियम कायदे कानून की धज्जी उड़ा दी गयी.

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.