By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

“एक्सक्लूसिव” : पूर्व सांसद आनंद मोहन जल्द होंगे जेल से रिहा, जानिए कैसे?

आनंद मोहन का खत्म होने वाला है जेलवास

;

- sponsored -

डेढ़ दशक पहले जिस बाहुबली राजनीतिक सूरमा की एक आवाज पर बिहार की सियासत हिल जाती थी, उस राजनीतिक बाजीगर की अब जेल से रिहाई तकरीबन सुनिश्चित हो गयी है। जी हाँ ! मैं बात कर कर रहा हूँ बीते करीब 14 वर्षों से बिहार के सहरसा जेल में बन्द पूर्व सांसद आनंद मोहन की।

-sponsored-

-sponsored-

“एक्सक्लूसिव” : पूर्व सांसद आनंद मोहन जल्द होंगे जेल से रिहा, जानिए कैसे?

सिटी पोस्ट लाइव : डेढ़ दशक पहले जिस बाहुबली राजनीतिक सूरमा की एक आवाज पर बिहार की सियासत हिल जाती थी, उस राजनीतिक बाजीगर की अब जेल से रिहाई तकरीबन सुनिश्चित हो गयी है। जी हाँ ! मैं बात कर कर रहा हूँ बीते करीब 14 वर्षों से बिहार के सहरसा जेल में बन्द पूर्व सांसद आनंद मोहन की। आनंद मोहन बिहार के तत्कालीन गोपालगंज डीएम जी.कृषनैया की हत्या मामले में आजीवन कारावास के सजायाफ्ता हैं और लंबे समय से सहरसा जेल में बन्द हैं। हांलांकि एक मामले में अभी पेशी के लिए उन्हें दिल्ली ले जाया गया है। पेशी के बाद उनकी पहली पारिवारिक तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हुई है। तस्वीर में आनंद मोहन सहित उनके दो बेटों और एक बेटी के साथ उनकी पत्नी पूर्व सांसद लवली आनंद के चेहरे पर खुशी की झलक साफ तौर पर देखी जा सकती है। यह खुशी संतोष, तयशुदा महोत्सव और नए जीवन के आगाज की है।

यहाँ यह भी गौरतलब और बेहद खास बात है कि पूर्व सांसद आनंद मोहन लगभग 14 वर्ष की सजा जेल के सलाखों के भीतर गुजारकर,काट ली है। अब उनकी रिहाई के लिए सिर्फ राज्य सरकार से हरी झंडी मिलने भर की देर है। वैसे बतौर आनंद मोहन और राजनीतिक जानकारों की मानें, तो आनंद मोहन की सजा के लिए नीतीश कुमार को ही षड्यंत्रकारी और जिम्मवार ठहराया जाता रहा है। हांलांकि नीतीश कुमार इसे न्यायालय और कानून का फैसला बताकर, खुद को लगातार बेकसूर बताते रहे हैं। बीते लोकसभा चुनाव के दौरान आनंद मोहन और नीतीश कुमार के बीच मधुर संबंध स्थापित हुए थे ।यही वजह है कि आनंद मोहन की पत्नी लवली आनंद और बड़े बेटे चेतन आनंद कॉंग्रेस में रहते हुए भी नीतीश कुमार और एनडीए के लिए चुनाव प्रचार कर रहे थे।

Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

उस समय कयास यह लगाया जा रहा था कि बीते 2 अक्टूबर को आनंद मोहन की रिहाई तय है लेकिन आनंद मोहन 2 अक्टूबर को रिहा नहीं किये गए ।बिहार सरकार के सूत्रों से जो हमें जानकारी मिली है,उसके मुताबिक,उस दौरान आनंद मोहन की पत्नी पूर्व सांसद लवली आनंद के कुछ नीतीश विरोधी बयान की वजह से रिहाई में तात्कालिक अड़चन आ गयी ।लेकिन अब रास्ता पूरी तरह से साफ हो चुका है ।पूर्व सांसद आनंद मोहन के इसी वर्ष किसी भी दिन रिहाई की खबर देश के लिए सुर्खी बन सकती है ।अभी सिटी पोस्ट की इस एक्सक्लूसिव जानकारी पर आनंद मोहन सहित उनके परिवार के अन्य सदस्यों की शारीरिक भाषा,इस बात की तकसीद कर रही है ।

अभी जो बिहार सहित देश की राजनीति है,उसमें कहीं से भी आनंद मोहन की पुरजोर दखल नहीं है ।लेकिन राजनीतिक जानकार और समीक्षकों का कहना है कि आनंद मोहन के जेल से बाहर निकलते ही खास कर के बिहार की राजनीतिक फजां बिल्कुल बदल जाएगी ।आनंद मोहन एक बड़े जनाधार वाले नेता हैं और वे हवा का रुख मोड़ने में माहिर रहे हैं ।जाहिर तौर पर आनंद मोहन के जेल से बाहर आते ही देश का राजनीतिक समीकरण बदलेगा और बड़े बदलाव की संभावना बढ़ेगी ।आनंद मोहन के समर्थकों,चाहने वालों से लेकर उनके विरोधियों और लगभग तमाम राजनीतिक पार्टियों के नेताओं को आनंद मोहन के जेल से बाहर निकलने का इंतजार है ।

पीटीएन न्यूज ग्रुप के सीनियर एडिटर मुकेश कुमार सिंह की “एक्सक्लूसिव”रिपोर्ट

-sponsered-

;

-sponsored-

Comments are closed.