By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

समता पार्टी के संस्थापक और पूर्व रक्षा मंत्री जार्ज फर्नाडिस का निधन, पीएम ने जताया दुख

- sponsored -

0

भारत के पूर्व रक्षा मंत्री जार्ज फर्नाडिस का 88 साल की उम्र में निधन हो गया है। लंबे वक्त से बीमार चल रहे थे और राजनीति से बिल्कुल दूर थे। जार्ज फर्नाडिस समता पार्टी के संस्थापक भी थे। उनके निधन से पूरे राजनीति जगत में शोक की लहर है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने उनके निधन पर दुःख व्यक्त किया है।

-sponsored-

समता पार्टी के संस्थापक और पूर्व रक्षा मंत्री जार्ज फर्नाडिस का निधन, पीएम ने जताया दुख

सिटी पोस्ट लाइवः भारत के पूर्व रक्षा मंत्री जार्ज फर्नाडिस का 88 साल की उम्र में निधन हो गया है। लंबे वक्त से बीमार चल रहे थे और राजनीति से बिल्कुल दूर थे। जार्ज फर्नाडिस समता पार्टी के संस्थापक भी थे। उनके निधन से पूरे राजनीति जगत में शोक की लहर है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने उनके निधन पर दुःख व्यक्त किया है। जानकारी के मुताबिक समता पार्टी के संस्थापक और देश के पूर्व रक्षा मंत्री जॉर्ज फर्नांडिस का मंगलवार सुबह 7 बजे से 88 वर्ष की उम्र में निधन हो गया. जॉर्ज फर्नांडिस पिछले कुछ दिनों से वह स्वाइन फ्लू से पीड़ित थे और दिल्ली के एक अस्पताल में भर्ती थे. लंबी समय से बीमार होने की वजह से ही वह सार्वजनिक जीवन से दूर थे.

अपने लंबे राजनीतिक करियर में उन्होंने रक्षा, उद्योग मंत्रालय का जिम्मा संभाला था. पूर्व रक्षा मंत्री जॉर्ज फर्नांडिस का भारतीय राजनीति में ऐतिहासिक योगदान रहा है, फिर चाहे वह रक्षा क्षेत्र में उठाए गए बड़े फैसले हो या फिर इमरजेंसी के दौरान अपनी आवाज उठाने का मुद्दा रहा हो, जॉर्ज फर्नांडिस ने हमेशा ही आगे बढ़कर नेतृत्व किया. पूर्व रक्षा मंत्री जॉर्ज फर्नांडिस की अगुवाई में 1974 में हुई रेलवे हड़ताल को सबसे बड़ी हड़ताल के रूप में देखा जाता है. उस दौरान वह ऑल इंडिया रेलवेमैन फेडरेशन के प्रमुख थे, जॉर्ज की अगुवाई में हुई उस हड़ताल ने केंद्र सरकार की नींद उड़ा दी थी.

Also Read

-sponsored-

3 जून 1930 को मैंगलोर में पैदा हुए जॉर्ज फर्नांडिस नौ बार लोकसभा के सांसद रहे. अपने संसदीय जीवन में वह संसद की कई कमेटियों का हिस्सा रहे, सरकारों में कई पदों पर भी रहे. देश में जब आपातकाल था तब जार्ज फर्नांडिस पगड़ी बांध और दाढ़ी रख कर सिख भेष में घूमा करते थे. कहा जाता है कि जब उन्होंने गिरफ्तारी दी थी तब वह जेल में गीता के श्लोक सुनाते थे.

-sponsered-

-sponsored-

Leave A Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More