By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

हेमंत सरकार की नियत युवाओं को रोजगार देने की नहीं लगती: रघुवर

HTML Code here
;

- sponsored -

भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा है कि सरकार ने राज्य में स्थानीय नौजवानों को नौकरी में प्राथमिकता देने के उद्देश्य से हाई स्कूल टीचर के 17,572 पदों पर नियुक्ति के लिए वर्ष 2016 में विज्ञापन निकला गया ।

[pro_ad_display_adzone id="49226"]

-sponsored-

सिटी पोस्ट लाइव, रांची: भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा है कि सरकार ने राज्य में स्थानीय नौजवानों को नौकरी में प्राथमिकता देने के उद्देश्य से हाई स्कूल टीचर के 17,572 पदों पर नियुक्ति के लिए वर्ष 2016 में विज्ञापन निकला गया ।

 

2018 में परीक्षाफल आया और 2019 में नियुक्तियां शुरू हुई। पिछली सरकार के कार्यकाल में लगभग 90 प्रतिशत पदों पर बहाली हो गयी। केवल इतिहास और नागरिकशास्त्र विषय के 626 सफल अभ्यार्थियों को नियुक्ति की जानी थी। इनकी नियुक्ति की अनुशंसा भी हो गयी है। केवल नियुक्ति पत्र दिया जाना है। परंतु शिक्षा विभाग ने 18 फरवरी 2021 को इनकी नियुक्ति पर रोक लगा दी, जबकि 11 गैर अनुसूचित जिलों में से देवघर में नियुक्ति की जा चुकी है। अपनी नियुक्तियों के लिए ये सफल अभ्यार्थी  उच्च न्यायालय की शरण में गये, तो  न्यायालय ने 11 फरवरी 2021 को शिक्षा विभाग को छह सप्ताह में नियुक्ति देने का आदेश दिया था।

 

उस समय सोनी कुमारी वाले मामले की आड़ में शिक्षा विभाग ने 18 फरवरी को इनकी नियुक्ति पर कार्मिक विभाग को पत्र लिख कर रोक लगवा दी। इस बीच आपकी सरकार के एक अपरिपक्व निर्णय के कारण हाई स्कूल में नौकरी पाये झारखंडवासियों की नौकरी पर संकट आ गया। इसके खिलाफ सोनी कुमारी व अन्य अभ्यार्थी माननीय सर्वोच्च न्यायालय तक गये। 9 जुलाई 2021 को माननीय सर्वोच्च न्यायालय ने 13 अनुसूचित जिले व 11 गैर अनुसूचित जिलों में हुई बहाली को सही ठहराया दिया। इसके बाद इतिहास व नागरिकशास्त्र के सफल अभ्यार्थियों के साथ बाकी नियुक्तियों का भी रास्ता साफ हो गया। लेकिन अब भी आपकी सरकार इन्हें नियुक्ति पत्र देने में आनाकानी कर रही है।

 

Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

रघुवर दास ने कहा कि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने वर्ष 2021 को आपने नियुक्ति वर्ष घोषित किया है। लेकिन आधे से ज्यादा साल बीत गया अभी तक आपकी सरकार नयी नियमावली नहीं बना पायी है। एक माह में नियमावली में सुधार का दावा भी अब पूरा होता नहीं दिख रहा है। इसी प्रकार पंचायत सचिव, सहायक पुलिस, पारा शिक्षक आदि हर कोई आंदोलन करने को मजबूर हैं।

 

पारा शिक्षकों के मामले में तो नियमावली, वेतनमान, कल्याण कोष के गठन समेत अन्य चीजों का पिछली सरकार ने ड्राफ्ट तैयार कर लिया था। अब केवल जरूरत है, उसे कैबिनेट में लाकर पारित करने की। लेकिन राज्य सरकार की नियत युवाओं को रोजगार देने की नहीं लगती है। बड़े-बड़े वादे कर आपने सत्ता हासिल कर ली और अब आप झारखंड के युवाओं को छलने का काम कर रहे हैं। अबुआ राज में कब तक झारखंडवासी छले जायेंगे।

 

रघुवर दास ने कहा कि अब सवाल यह उठता है कि पांच लाख सालाना रोजगार देने के वादे से आयी राज्य सरकार लोगों को नये रोजगार तो दे नहीं पा रही है, बल्कि जिन्हें रोजगार मिला हुआ है, उनसे रोजगार छिन रही है। क्या झारखंडवासियों को झारखंड में रोजगार करने का अधिकारी नहीं है। केवल इसलिए कि उन्हें भाजपा के शासनकाल में रोजगार मिला।

 

लड़ाई भाजपा से होनी चाहिए, इन युवाओं से नहीं। उन्होंने मुख्यमंत्री से आग्रह किया कि वे राजनीतिक लड़ाई में इन युवाओं के भविष्य के साथ खिलवाड़ न कर इन्हें रोजगार दें। जिन्हें सरकार रोजगार नहीं दे पा रहे हैं वैसे नौजवानों को अपने वादे के अनुसार रोजगार भत्ता दें।

;
HTML Code here

-sponsored-

Comments are closed.