By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

एक्सक्लूसिव इंटरव्यूः काराकाट में उपेन्द्र कुशवाहा का श्राद्ध करने जाउंगा, बकरी की तरह मिमियाएंगे’

Above Post Content

- sponsored -

सियासी अदावत भी बेहद भीषण होती है। राजनीति में जब दोस्त दुश्मन बनते हैं तो दुश्मनी का रंग बहुत गाढ़ा होता है। बिहार की राजनीति में एक ऐसी हीं दुश्मनी सुर्खियों में है। कभी जिस उपेन्द्र कुशवाहा के करीबी हुआ करते थे नागमणि अब उनके श्राद्ध करने पर आमादा हैं।

Below Featured Image

-sponsored-

एक्सक्लूसिव इंटरव्यूः काराकाट में उपेन्द्र कुशवाहा का श्राद्ध करने जाउंगा, बकरी की तरह मिमियाएंगे’

सिटी पोस्ट लाइवः सियासी अदावत भी बेहद भीषण होती है। राजनीति में जब दोस्त दुश्मन बनते हैं तो दुश्मनी का रंग बहुत गाढ़ा होता है। बिहार की राजनीति में एक ऐसी हीं दुश्मनी सुर्खियों में है। कभी जिस उपेन्द्र कुशवाहा के करीबी हुआ करते थे नागमणि अब उनके श्राद्ध करने पर आमादा हैं। उपेन्द्र कुशवाहा की पार्टी रालोसपा में नंबर दो रहे यानि कार्यकारी अध्यक्ष की जिम्मेवारी संभाल चुके नागमणि उपेन्द्र कुशवाहा की राजनीति को पूरी तरह खत्म कर देना चाहते हैं। सिटी पोस्ट लाइव के एडिटर इन चीफ श्रीकांत प्रत्यूष से बातचीत करते हुए नागमणि ने कहा कि बोरिया बिस्तर बांधकर उपेन्द्र कुशवाहा का श्राद्ध करने काराकाट जाउंगा। उपेन्द्र कुशवाहा को पांचो सीट हराउंगा। नागमणि ने कहा कि मैंने सीएम नीतीश कुमार को पहली मुलाकात में कहा था कि जिस उपेन्द्र कुशवाहा को हमने हीरो बनाया उन्हें अब हम जीरो बनाएंगे।

वे बकरी थे, मिमियाते थे, हमने बाघ का खाल पहनाया और बाघ बनाया, अब मैंने उन्हें छोड़ दिया है अब वे एक बार फिर बकरी हो जाएंगे और मिमियाएंगे। आपको बता दें कि नागमणि रालोसपा के कार्यकारी अध्यक्ष हुआ करते थे लेकिन एक कार्यक्रम में सीएम नीतीश कुमार के साथ मंच साझा करने और फिर उनकी तारीफ करने के बाद उपेन्द्र कुशवाहा ने उन्हें पार्टी से निकाल दिया था। रालोसपा से अलग होने के बाद नागमणि ने जेडीयू ज्वाइन कर ली। हांलाकि वे दावा करते रहे थे कि वे उपेन्द्र कुशवाहा के खिलाफ चुनाव लड़ेंगे लेकिन वे ऐसा नहीं कर पाए क्योंकि जेडीयू से उन्हें टिकट नहीं मिल सका।

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.