By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

CM नीतीश का चुनावी तोहफा, सत्तरघाट पुल समेत 400 करोड़ की योजनाओं का किया लोकार्पण

HTML Code here
;

- sponsored -

बिहार में होनेवाले विधानसभा  चुनाव की तैयारी में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जुट गए हैं. उन्होंने सूबे को चुनावी तोहफा देना शुरू कर दिया है. अधिक से अधिक योजनाओं पर काम पूरा करने के लिए उन्होंने उद्घाटन और शिलान्यास का कार्यक्रम शुरू कर दिया है.

-sponsored-

सिटी पोस्ट लाइव : बिहार में होनेवाले विधानसभा  चुनाव की तैयारी में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जुट गए हैं.उन्होंने सूबे को चुनावी तोहफा देना शुरू कर दिया है. अधिक से अधिक योजनाओं पर काम पूरा करने के लिए उन्होंने उद्घाटन और शिलान्यास का कार्यक्रम शुरू कर दिया है. आज उन्होंने संवाद भवन से विडीकांफ्रेंसिंग के माध्यम से दो बड़ी परियोजनाओं का लोकार्पण किया है. मुख्यमंत्री  ने 400 करोड़ रुपए से अधिक राशि से निर्मित पुल  की 2 परियोजनाओं का लोकार्पण किया है.लखीसराय बाईपास रोड़ का भी  उदघाटन किया है.122 करोड़ों रुपए की लागत से प्रस्तावित रोहतास के सासाराम उत्तरी बाईपास योजना का भी शिलान्यास भी कर दिया है.

मुख्यमंत्री ने आज संवाद में आयोजित कार्यक्रम में गंडक नदी पर 263.47 करोड़ की लागत से सत्तर घाट पुल और 146.31 रुपए की लागत से बने लखीसराय बाईपास रोड का उद्घाटन किया है. गंडक नदी पर निर्मित सत्तरघाट पुल सारण और तिरहुत प्रमंडल को आपस में जोड़ेगा. 1440 मीटर लंबे पुल का निर्माण बिहार राज्य पुल निर्माण निगम ने किया है. यह पुल गंडक नदी पर बैकुंठपुर से चकिया को जोड़ा है. इससे सिवान, छपरा, गोपालगंज होते हुए नेशनल हाईवे 28 के जरिए उत्तर बिहार के जिलों की संपर्कता हो जाएगी. इस पुल से पटना से मसरख होते हुए रक्सौल तक सीधा रास्ता उपलब्ध होगा.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने 20 अप्रैल 2012 को इस पुल का शिलान्यास किया था. इसी प्रकार पथ निर्माण विभाग द्वारा निर्मित लखीसराय बाईपास रोड में दोनों रेलवे लाइन पर आरओबी का निर्माण किया गया है. इस परियोजना की कुल लंबाई साढ़े 6 किलोमीटर है. इसके बनने से लखीसराय शहर को जाम की समस्या से निजात मिल गई। रोहतास जिले के सासाराम शहर के बाईपास के निर्माण की परियोजना का भी सीएम नीतीश ने शिलान्यास किय़ा है। इसके अंतर्गत रेल लाइन पर आरओबी के अलावा स्टेट हाईवे 17 एवं 12 पर अंडरपास का निर्माण किया जाएगा. इसके बन जाने से आरा से बनारस जाने के लिए सासाराम शहर में नहीं जाना पड़ेगा.

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.