By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

राष्ट्रीय कार्यकारिणी बैठक के बाद जेडीयू ने कहा-धारा 370 में छेड़छाड़ स्वीकार नहीं

Above Post Content

- sponsored -

आम राय यह बनी कि धारा 370 में किसी प्रकार की छेड़छाड़ स्वीकार नहीं की जायेगी।  राम मंदिर का मामला कोर्ट में है और यह मसला कोर्ट या आपसी सहमति के आधार पर ही निपटे। 

Below Featured Image

-sponsored-

राष्ट्रीय कार्यकारिणी बैठक के बाद जेडीयू ने कहा-धारा 370 में छेड़छाड़ स्वीकार नहीं

सिटी पोस्ट लाइव : जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की अहम बैठक आज हुई है. बिहार के मुख्यमंत्री सह जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार की अध्यक्षता में यह बैठक संपन्न हुई. कल एनडीए की संकल्प रैली के बाद आज की इस बैठक को बेहद अहम माना जा रहा था। जानकारी के मुताबिक रविवार को संकल्प रैली में अपनी ताकत दिखाने के बाद जदयू आज राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में चुनावी रणनीति तैयार हुई है. बता दें राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में कई राज्यों के प्रदेश अध्यक्ष भी मौजूद रहे। बैठक के बाद प्रेस को संबोधित करते हुए केसी त्यागी और आरसीपी सिंह ने प्रेस को संबोधित करते हुए कहा कि बैठक में लोकसभा चुनाव को लेकर रणनीति की चर्चा के साथ ही आम राय यह बनी कि धारा 370 में किसी प्रकार की छेड़छाड़ स्वीकार नहीं की जायेगी।  राम मंदिर का मामला कोर्ट में है और यह मसला कोर्ट या आपसी सहमति के आधार पर ही निपटे।

जदयू की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक दोपहर 12  बजे शुरू हुई। इस बैठक में पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह, राष्ट्रीय महासचिव आरसीपी सिं, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर के साथ पार्टी के कई वरिष्ठ नेता मौजूद रहे। जानकारी के मुताबिक लोकसभा चुनाव से पहले राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में पार्टी के विस्तार पर भी चर्चा की गई। साथ ही पार्टी सभी 40 सीटों पर जीत की रणनीति तैयार कर रही है। बता दें कि लोकसभा चुनाव के लिए एनडीए में सीटों का बंटवारा पहले ही हो गया है, लेकिन उम्मीदवारों के नाम अबतक तय नहीं किए गए हैं। कई सीटों के लिए अभी भी पेंच फंसा हुआ है।

Also Read
Inside Post 3rd Paragraph

-sponsored-

गौरतलब है NDA की संकल्प रैली में अपने कार्यकर्ताओं का उत्साह देखकर जदयू नेतृत्व लोकसभा चुनाव में उसी दमखम को बनाये रखने की रणनीति बनाएगा। माना जा रहा है कि आज की बैठक में चुनावी प्रबंधन के लिए जदयू अपने नेताओं को नई जिम्मेदारी दे सकता है. आपको बता दें कि एनडीए की संकल्प रैली में जेडीयू ने पूरी तरह अपनी ताकत झोंक दी थी और इस रैली के प्रबंधन में जेडीयू का दमखम बीजेपी के मुकाबले ज्यादा नजर आया था।

Below Post Content Slide 4

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.