By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

बेगूसराय : कन्हैया ने साधा गिरिराज सिंह पर निशाना, कहा-“नाच न जाने तो पाकिस्तान टेढ़ा”

- sponsored -

0

पाकिस्तान उनके मन में इस तरह समा गया है कि उन्हें केरल में पाकिस्तान नज़र आ रहा है। इस जज़्बे को क्या नाम दिया जाए? अगर वे थोड़ा समय अपने देश को दे पाते, तो आज बेगूसराय में हमें उद्यमों का विकास दिखता।

-sponsored-

बेगूसराय : कन्हैया ने साधा गिरिराज सिंह पर निशाना, कहा-“नाच न जाने तो पाकिस्तान टेढ़ा”

सिटी पोस्ट लाइव : गुरुवार  कन्हैया कुमार ने बेगूसराय के सिंगदाहा, बखतपुर, सहुरी, बहुआरा, महना, नूरपुर, चकबली, चकिया आदि में आयोजित जनसंपर्क कार्यक्रमों में जनता को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि वीज़ा मंत्री जी पिछले पाँच साल के अपने पाँच बड़े काम भले न गिना पाएँ लेकिन पाकिस्तान का नाम 5000 बार ले चुके होंगे। पाकिस्तान उनके मन में इस तरह समा गया है कि उन्हें केरल में पाकिस्तान नज़र आ रहा है। इस जज़्बे को क्या नाम दिया जाए? अगर वे थोड़ा समय अपने देश को दे पाते, तो आज बेगूसराय में हमें उद्यमों का विकास दिखता। लेकिन हमें क्या दिखता है? कभी केरल में पाकिस्तान देखने वाले मंत्री जी के बयान का वीडियो तो कभी भारतीयों को पाकिस्तान भेजने वाले बयान का वीडियो। राजनीति का वीडियोकरण हो गया है। ज़मीन के मुद्दों की बात नहीं होती, बस हवा-हवाई मुद्दों के शोर में असली मुद्दों का दबाया जाता है।

कन्हैया ने कहा कि देश में कई ऐसे मसले हैं जिन पर भाजपा के नेताओं का ध्यान नहीं जाता। बेगूसराय में कई कारख़ाने बंद हो गए हैं। यहाँ लोग लंबे समय से पेट्रोकेमिकल कारख़ाना शुरू कराने की माँग करते आए हैं। किसानों को फ़सल की सही कीमत नहीं मिलती। ज़िले में न विश्वविद्यालय है न एम्स जैसा कोई बड़ा अस्पताल। लेकिन क्या भाजपा के मंत्रियों के पास ऐसे मसलों के लिए कोई ढंग की योजना है जिसमें इस ज़िले की बेरोज़गारी को दूर करने की कोशिश दिखती हो? जब देश में बेरोज़गारी ने पिछले 45 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया हो, तब रोज़गार पर बात नहीं करके जनता को फ़र्ज़ी मसलों में उलझाना देश को पीछे ले जाना ही तो है। वीज़ा मंत्री जी के बारे में यही कहना ठीक होगा – “नाच न जाने तो पाकिस्तान टेढ़ा”।

Also Read

-sponsored-

बेगूसराय से सुमित कुमार की रिपोर्ट

-sponsered-

-sponsored-

Leave A Reply

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More