By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

खेसारी लाल यादव पहुंचे चमकी बुखार से पीड़ित मासूमों को देखने,फैन्स की जुटी भीड़

;

- sponsored -

गरीबों की हमेंशा से मदद करने के लिए जाने जानेवाले भोजपुरी फिल्म के सुपर स्टार खेसारीलाल यादव गुरूवार को मुजफ्फरपुर के एसकेएमसीएच अस्पताल पहुंचे. खेसारी लाल यादव यहाँ चमकी बुखार से पीड़ीत बच्चों और उनके परिजनों से मिलने पहुंचे. लेकिन जैसे ही वे वहाँ पहुंचे उनके फैन्स की नजर उनपर पड़ी और फैन्स की बड़ी भीड़ जुट गई. तत्काल सुरक्षा के मद्देनजर वहां मौजूद कर्मियों ने फिर से गेट को बंद कर दिया. इस दौरान अस्पताल में मीडियाकर्मियों की इंट्री पर भी रोक लगा दी गई लेकिन भीड़ थी की मानने वाली नहीं थी.

-sponsored-

-sponsored-

खेसारी लाल यादव पहुंचे चमकी बुखार से पीड़ित मासूमों को देखने,फैन्स की जुटी भीड़

सिटी पोस्ट लाइव- गरीबों की हमेंशा से मदद करने के लिए जाने जानेवाले भोजपुरी फिल्म के सुपर स्टार खेसारीलाल यादव गुरूवार को मुजफ्फरपुर के एसकेएमसीएच अस्पताल पहुंचे. खेसारी लाल यादव यहाँ चमकी बुखार से पीड़ीत बच्चों और उनके परिजनों से मिलने पहुंचे. लेकिन जैसे ही वे वहाँ पहुंचे उनके फैन्स की नजर उनपर पड़ी और फैन्स की बड़ी भीड़ जुट गई. तत्काल सुरक्षा के मद्देनजर वहां मौजूद कर्मियों ने फिर से गेट को बंद कर दिया. इस दौरान अस्पताल में मीडियाकर्मियों की इंट्री पर भी रोक लगा दी गई लेकिन भीड़ थी की मानने वाली नहीं थी.

खेसारी लाल यादव को एसकेएमसीएच से बाहर निकालने में परेशानी होने के बाद इसकी जानकारी पुलिस अफसरों ने अपने सीनियर्स को दी जिसके बाद सिटी एसपी भी कार्रवाई के लिए पहुंचे. खेसारी को देखने के लिए भारी संख्या में गेट पर भीड़ लगी रही. इस दौरान विधि-व्यवस्था को बनाए रखने में सुरक्षाकर्मियों के पसीने छूट गए.  बता दें कि बिहार के खासकर मुजफ्फरपुर में इंसेफेलाइटिस से 115 से अधिक मासूमों की मौत हो गई है. जबकि पुरे बिहार में 150 बच्चों की मौत हुई है. कुछ दिन पहले यहाँ बिहार के सीएम नीतीश कुमार भी आये थें लेकिन उन्हें लोगों के भारी विरोध का सामना झेलना पड़ा था.

Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

मालूम हो कि भोजपुरी के सुपर स्टार अभिनेता एवं गायक खेसारी लाल यादव के बिहार ही नहीं समूचे भारत में इनके प्रशंसक हैं. खेसारी लाल यादव अक्सर बिहार में गरीबों के बीच उनकी मदद करने के लिए जाने जाते हैं. चाहे वह ठंढ के मौसम में गरीबों के बीच कपड़ा एवं कम्बल बांटने की बात हो या फिर आग लगने के कारण गरीबों के झोपड़ी जलने से बेघर होने की बात हो.ये अक्सर वहाँ पहुंचकर गरीबों की मदद करते हैं.                                                                                                                                                                             जे.पी.चंद्रा की रिपोर्ट

-sponsered-

;

-sponsored-

Comments are closed.