By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

2019 का लोकसभा चुनाव सामान्य चुनाव नहीं है बल्कि एक्स्ट्रा ऑर्डिनरी चुनाव है : दीपांकर

;

- sponsored -

झारखण्ड में डबल इंजन की सरकार नहीं बल्कि डबल बोल्डोजर की सरकार है ,जो घरों को उजड़ती हैं। यह बात भाकपा (माले) लिबरेशन के राष्ट्रीय महासचिव दीपांकर भट्टाचार्य ने बुधवार को आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में कही।

-sponsored-

-sponsored-

2019 का लोकसभा चुनाव सामान्य चुनाव नहीं है बल्कि एक्स्ट्रा ऑर्डिनरी चुनाव है : दीपांकर

सिटी पोस्ट लाइव, मेदिनीनगर: झारखण्ड में डबल इंजन की सरकार नहीं बल्कि डबल बोल्डोजर की सरकार है ,जो घरों को उजड़ती हैं। यह बात भाकपा (माले) लिबरेशन के राष्ट्रीय महासचिव दीपांकर भट्टाचार्य ने बुधवार को आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में कही। उन्होंने कहा कि वर्ष 2019 का लोकसभा चुनाव सामान्य चुनाव नहीं है बल्कि एक्स्ट्रा ऑर्डिनरी चुनाव है। उन्होंने कहा कि अघोषित आपातकाल के दौर में यह चुनाव हो रहा है। देश में लोकशाही को स्थापित करना आज सबसे बड़ा एजेंडा है। पिछले चुनाव में भाजपा के नारे और आज के उनके नारे में बहुत अंतर है। उनके घोषणा पत्र में खुलकर आरएसएस का पूरा एजेंडा शामिल किया गया है। साथ ही नए-नए खतरनाक मुद्दे लाये आए हैं। उन्होंने कहा कि कि भाजपा ने संविधान को संशोधन कर जिस तरीके से आर्थिक आधार पर आरक्षण किया है वह देश के सामाजिक न्याय व संवैधानिक हमला है और इसी को भाकपा माले ने मुद्दा बनाया है। उन्होंने कहा कि विजय माल्या और नीरो मोदी दो ही नहीं बल्कि 36 ऐसे पूंजीपति हैं जिन्होंने भारतीय बैंकों को लूट कर देश के बाहर चले गए हैं। उन्होंने कहा की भूख से लगातार हो रही मौतें होने के पीछे इसका स्पष्ट कारण है राशन कार्ड सिस्टम सिस्टम का गलत होना है। मिड डे मील में काम करने वालों की स्थिति भी आज विकराल बन चुकी है। स्कूलों को लगातार बंद करने की साजिश रची जा रही है। इस हिटलरशाही से लोगों को मुक्ति चाहिए। उन्होंने कहा कि चुनाव में कल तक जो पार्टियां भाजपा को हराने की बात करती थी वे आन इनके साथ नजर आ रहे हैं। भाजपा के लोगों को अपने पुराने लोगों पर भरोसा नहीं रहा। नेताओं को इंपोर्ट किया जा रहा है। इस तरह भाजपा मतदाताओं के साथ विश्वासघात हुआ है। कानून व संविधान को बचाने की बात पर हम निरंतर लड़ाई लड़ते रहेंगे। भाजपा विरोधी मतों का बिखराव कम हो इसके लिए हमने सीटों की संख्या कम की है। देश भर में मात्र 22 सीटों पर ही चुनाव लड़ रहे हैं। 

-sponsered-

;

-sponsored-

Comments are closed.