By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

बिहार के इस गांव में काम किया नीतीश कुमार ने लेकिन पूजा हो रही है पीएम मोदी की

;

- sponsored -

कटिहार जिले के आजमनगर प्रखण्ड के एक छोटे से गांव  सिंघारोल जहां तमाम बुनियादी  सुविधाओं  से गावं वाले वंचित हैं. उन्होंने पीएम को भगवान का दर्जा दिया है.

[pro_ad_display_adzone id="49226"]

-sponsored-

बिहार के इस गांव में काम किया नीतीश कुमार ने लेकिन पूजा हो रही है पीएम मोदी की

सिटी पोस्ट लाइव : एक तरफ तेजस्वी यादव ने बिहार के मुख्यमंत्री को रावण का दर्जा दे दिया है. वहीं प्रधानमंत्री नरेन्द मोदी के समर्थकों ने मोदी की तस्वीर को लगाकर भगवन की तरह पूजा शुरू कर दिया है. मोदी की भगवन की तरह पूजा करने वाले गावं के लोगों कहना है कि  पीएम के  विकास के  देवता  हैं. कटिहार जिले के आजमनगर प्रखण्ड के एक छोटे से गांव  सिंघारोल जहां तमाम बुनियादी  सुविधाओं  से गावं वाले वंचित हैं. उन्होंने पीएम को भगवान का दर्जा दिया है.

दरअसल, कटिहार जिला मुख्यालय से आजमनगर प्रखण्ड का यह सुदूर देहाती ईलाके का गांव सिंघारोल आजतक बिजली –पानी के लिए भी तरस रहा है. पहलीबार जब विकास की योजनायेन यहाँ शुरू हुईं तो लोगों की ख़ुशी का ठिकाना नहीं रहा. लोग बेहद खुश और उत्साहित हैं. उत्साह ऐसा कि गांव के लोगों ने पीएम नरेन्द्र मोदी की मूर्ति बनवाई और अब इसे स्थापित करने के लिए मंदिर बनाने की तैयारी चल रही है.

Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

इतना ही नहीं मोदी भक्तों ने गांव के एक चौक का नाम भी अब मोदी चौक रख दिया है. बिना किसी राजनितिक प्रतिनिधि की मदद से पीएम की मूर्ति बनाकर स्थाई रूप से मंदिर निर्माण लिए तैयारी शुरू कर दी है. फिलहाल आपसी विचारों के आधार पर गांव के ही बजरंग बलि के मन्दिर में पीएम मोदी की प्रतिमा रखी गई है. गांव के लोग भी मानते हैं कि पीएम का मैजिक लगातार जारी है और वो हमारे लिए किसी भी तौर पर भगवान से कम नहीं.

गावं के लोगों का कहना है कि आजादी के बाद से कभी किसी ने उनके गावं के लिए कुछ नहीं किया. आज भी इस गांव में शुद्ध पेयजल, सड़क, जल निकासी, विद्यालय नही है .अब गांव तक बिजली पहुंच चुकी है. धीरे-धीरे सभी चीजों में सुधार हो रहा है. ग्रामीणों को भरोसा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जिस तरह समाज के आखरी पायदान तक विकास को पहुचाने की कोशिश कर रहे हैं उससे निश्चित तौर पर उनके गांव का भी विकास होगा.

ग्रामीणों का कहना है कि गांव में ग्रामीण मोदी को विकास का देवता मानते हैं .इसलिए बिना किसी राजनीतिक व्यक्ति के सहयोग लेकर वो लोग मूर्ति निर्माण करवा चुके हैं. आपसी चंदा के सहयोग से मंदिर निर्माण की तैयारी कर रहे है. पंचायत के मुखिया लालन विश्वास ने बताया कि गांव का विकास तो हुआ है लेकिन और काम होना है. जहां तक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मूर्ति और मंदिर का सवाल है तो ये ग्रामीणों की निजी आस्था से जुड़ा हुआ विषय है.

अभिनेता और खिलाड़ियों को भगवान का दर्जा देना इस देश की परम्परा रही है मगर पीएम को भगवान का दर्जा देकर बिहार के इस गांव के लोगों ने एक नई परंपरा की शुरूआत की है. लेकिन सच्चाई ये है कि आज इस गावं में जो बिजली पहुंची है, सड़कें बनी हैं और शुद्ध नल का जल उपलब्ध हुआ है, उसका श्रेय पीएम मोदी को नहीं बल्कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को जाता है. यानी काम कियानीतीश सरकार ने और नाम हो रहा है मोदी सरकार का.

-sponsered-

;

-sponsored-

Comments are closed.