By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

अब,चमकी बुखार पर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर, सोमवार को होगी सुनवाई 

;

- sponsored -

बिहार में चमकी बुखार यानी इंसेफलाइटिस सिंड्रोम का मामला अब सुप्रीम कोर्ट तक जा पहुंचा है. अब सुप्रीम कोर्ट एईस से हो रही मौतों के मामले में दाखिल की गई याचिका पर सुनवाई के लिए तैयार हो गई है. प्राप्त जानकारी के अनुसार सुप्रीम कोर्ट इस मामले पर सोमवार को सुनवाई करेगा. इस याचिका में स्वास्थ्य से जुड़ी बातों को ध्यान में रखकर कई मांगे भी इस बीमारी के रोक-थाम के लिए की गई हैं.

[pro_ad_display_adzone id="49226"]

-sponsored-

अब,चमकी बुखार पर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर, सोमवार को होगी सुनवाई 

सिटी पोस्ट लाइव- बिहार में चमकी बुखार यानी इंसेफलाइटिस सिंड्रोम का मामला अब सुप्रीम कोर्ट तक जा पहुंचा है. अब सुप्रीम कोर्ट एईस से हो रही मौतों के मामले में दाखिल की गई याचिका पर सुनवाई के लिए तैयार हो गई है. प्राप्त जानकारी के अनुसार सुप्रीम कोर्ट इस मामले पर सोमवार को सुनवाई करेगा. इस याचिका में स्वास्थ्य से जुड़ी बातों को ध्यान में रखकर कई मांगे भी इस बीमारी के रोक-थाम के लिए की गई हैं.

इस याचिका में सुप्रीम कोर्ट में दाखिल जनहित याचिका में राज्य और केन्द्र सरकार को इलाज के पुख्ता इंतजाम करने का निर्देश दिये जाने की मांग की गई है. दाखिल जनहित याचिका मे कहा गया है कि बिहार सरकार बीमारी को फैलने से रोकने में नाकाम रही है इसलिए कोर्ट और केन्द्र सरकार मामले में दखल दें. साथ ही बिहार सरकार और केन्द्र सरकार को निर्देश दिया जाए कि वो प्रभावितों के इलाज के लिए बिहार में करीब 500 आईसीयू और मोबाइल आईसीयू की व्यवस्था करे.

Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

याचिका में मांग की गई है कि बिहार सरकार को निर्देश दिया जाए कि वो आदेश जारी करे जिसमें निजी अस्पतालों को बीमार बच्चों का मुफ्त में इलाज करने को कहा जाए, साथ ही इस बीमारी से जिन बच्चों की मौत हो गई है उनके पीड़ित परिवारों को मुआवजा दिया जाए. मालूम हो कि बिहार में अब तक इंसेफलाइटिस से 143 बच्चों की मौत हो चुकी है जबकि कई बच्चे अभी भी अस्पताल में भर्ती हैं.

बता दें कि मंगलवार को सीएम नीतीश कुमार मुजफ्फरपुर SKMCH में पीड़ीत बच्चों से मिलने गये थें . जहां उनका लोगों ने काफी विरोध किया एवं उनके खिलाफ नारेबाजी भी की थी.लगातार वहाँ की पब्लिक नीतीश कुमार वापस जाओ के नारे लगा रही थी.मालूम हो कि नीतीश कुमार वहाँ 17 दिन के बाद पीड़ितों का हाल जानने गये थें जबकि बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पाण्डेय 14 दिन बाद गये थें.                                                                                                                                                                                                        जे.पी.चंद्रा की रिपोर्ट

-sponsered-

;

-sponsored-

Comments are closed.