By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

कोरोना के बहाने PK ने साधा नीतीश कुमार पर निशाना, कहा-राहत क्यों नहीं पहुंचा रही सरकार

Above Post Content

- sponsored -

कोरोना वायरस के संक्रमण (Coronavirus Infection) के खतरे को देखते हुए पूरे भारत में लॉकडाउन है. ऐसे में बिहार से ताल्लुक रखने वाले हजारों लोग दूसरे प्रदेशों में फंस गए हैं. देश के जानेमाने चुनावी रणनीतिकार और जेडीयू के पूर्व उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर (Prashant Kishore) ने दिल्ली और अन्य शहरों में फंसे लोगों की मदद करने की अपील की है.

Below Featured Image

-sponsored-

कोरोना के बहाने PK ने साधा नीतीश कुमार पर निशाना, कहा-राहत क्यों नहीं पहुंचा रही सरकार

सिटी पोस्ट लाइव : कोरोना वायरस के संक्रमण (Coronavirus Infection) के खतरे को देखते हुए पूरे भारत में लॉकडाउन है. ऐसे में बिहार से ताल्लुक रखने वाले हजारों लोग दूसरे प्रदेशों में फंस गए हैं. देश के जानेमाने चुनावी रणनीतिकार और जेडीयू के पूर्व उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर (Prashant Kishore) ने दिल्ली और अन्य शहरों में फंसे लोगों की मदद करने की अपील की है. इस बहाने उन्होंने सीएम नीतीश कुमार (Nitish Kumar) को भी अपने निशाने पर लिया और उन्हें राहत नहीं पहुंचाने का आरोप लगाते हुए सवाल उठाया है..

प्रशांत किशोर ने अपने ट्वीट में लिखा, ”दिल्ली और अन्य कई जगहों पर बिहार के सैकड़ों गरीब लोग लॉकडाउन की वजह से फंसे हुए हैं. नीतीश कुमार जी, जब दुनिया भर की सरकारें अपने लोगों की मदद कर रही हैं, बिहार सरकार इन लोगों को इनके घरों तक पहुंचाने अथवा जहां ये लोग हैं वहीं कुछ फ़ौरी राहत की व्यवस्था क्यों नहीं कर रही है?”

Also Read

-sponsored-

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार आधी रात से ही संपूर्ण भारत में लॉकडाउन का ऐलान किया है. जबकि बिहार में ये 23 मार्च से ही लागू हो गया. ऐसे हालात में बिहार से ताल्लुक रखने वाले हजारों लोग विभिन्न शहरों में फंस गए हैं. इस विपदा की घड़ी में वे अपने प्रदेश आना चाहते हैं, लेकिन बिहार सरकार ऐसे लोगों के लिए किसी भी तरह की कोई कवायद करती नहीं दिख रही है.

लॉकडाउन में ये स्पष्ट कहा गया है कि जो जिस शहर में हैं फिलहाल वहीं बने रहें क्योंकि कोरोना वायरस एक दूसरे से ट्रांसमिशन के जरिये फैलता है. इसलिए इसमें एहतियात बरतनी आवश्यक है. लेकिन दूसरे प्रदेशों में बिहार से पलायन करने वाले अधिकतर मजदूर वर्ग से आते हैं. उनके पास आवश्यक सामान की उपलब्धता भी नहीं होती, ऐसे में प्रशांत किशोर के उठाए सवाल प्रासंगिक हैं.

Below Post Content Slide 4

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.