By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

वन विभाग से एनओसी लिये बगैर मंडल डैम का पीएम से कराया शिलान्यास : योगेन्द्र प्रताप

Above Post Content

- sponsored -

झाविमो के केन्द्रीय प्रवक्ता योगेन्द्र प्रताप ने रविवार को कहा है कि तमाम कागजी प्रक्रिया पूरी किये बगैर भाजपा ने महज राजनीतिक व चुनावी लाभ के लिए मंडल डैम का शिलान्यास कराया। वन विभाग से एनओसी लिए बगैर प्रधानंमत्री द्वारा डैम का आनन-फानन में शिलान्यास कराकर भाजपा ने साबित कर दिया कि उनकी मंशा राजनीतिक है।

Below Featured Image

-sponsored-

वन विभाग से एनओसी लिये बगैर मंडल डैम का पीएम से कराया शिलान्यास : योगेन्द्र प्रताप

सिटी पोस्ट लाइव, रांची: झाविमो के केन्द्रीय प्रवक्ता योगेन्द्र प्रताप ने रविवार को कहा है कि तमाम कागजी प्रक्रिया पूरी किये बगैर भाजपा ने महज राजनीतिक व चुनावी लाभ के लिए मंडल डैम का शिलान्यास कराया। वन विभाग से एनओसी लिए बगैर प्रधानंमत्री द्वारा डैम का आनन-फानन में शिलान्यास कराकर भाजपा ने साबित कर दिया कि उनकी मंशा राजनीतिक है। अहम सवाल उठता है कि भाजपा की केन्द्र व राज्य सरकार को बगैर तमाम आवश्यक कागजी प्रक्रिया पूरी किये ही मंडल डैम के शिलान्यास की इतनी बेताबी क्यों थी? जब भाजपा को पौने पांच साल तक डैम की कोई सुध ही नहीं रही तब तमाम प्रक्रिया पूरी होने पर दो-चार माह बाद ही डैम का शिलान्यास होता तो कौन-सा पहाड़ टूट जाता। स्पष्ट है भाजपा ने महज चुनावी फायदे के लिए जनता की आंखों में धूल झोंकने का काम किया है। भाजपा जानती थी कि दो माह बाद आम चुनाव होने हैं, जल्द ही नोटिफिकेशन जारी हो जाएगा। यही सोचकर भाजपा ने अपनी फितरत के अनुसार आधी-अधूरी तैयारी के साथ डैम का शिलान्यास कर झारखंड की जनता को बेवकूफ बनाने की चाल चली, पर भाजपा को पता होना चाहिए कि जनता उनकी सब शातिराना चाल को समझ रही है। बताया जाता है कि वन विभाग की कई ऐसी शर्तें हैं जिसे पूरी करने में 3 माह या उससे भी अधिक समय लग सकता है। भाजपा भी जानती है कि अभी डैम निर्माण प्रारंभ होने में कई पेंच हैं। वैसे भी झाविमो ने पहले ही साफ तौर पर कहा है कि डैम बने या न बने भाजपा को इससे कतई सरोकार नहीं है, बल्कि उसे केवल अपने राजनीतिक लाभ से मतलब है। पूरी जमीन देने के बावजूद इस परियोजना से झारखंड को महज 17 फीसदी लाभ होगा, वहीं इससे 24 मेगावाट बिजली उत्पन्न करने की बात कहकर भी जनता को गुमराह करने का काम किया जा रहा है।

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.