By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

प्रशांत किशोर ने तीन बार की इस्तीफे की पेशकश,लेकिन नहीं माने नीतीश कुमार.

- sponsored -

प्रशांत किशोर ने तीन बार की इस्तीफे की पेशकश,लेकिन नहीं माने नीतीश कुमार. प्रशांत किशोर ने कहा कि केवल नागरिकता संशोधन बिल से ज्यादा फर्क नहीं पड़ेगा लेकिन उसके साथ NRC को जोड़ देने से गंभीर संकर पैदा होसकता है.मुख्यमंत्री ने बड़े धयन से उनकी बातें सुनी.जब कोई अनुकूल प्रतिक्रिया नहीं मिली तो प्रशांत किशोर ने बीच बीच में कुल तीन बार अपने इस्तीफे की पेशकश की लेकिन मुख्यमंत्री ने इस्तीफा लेने से इंकार कर दिया.

Below Featured Image

-sponsored-

प्रशांत किशोर ने तीन बार की इस्तीफे की पेशकश,लेकिन नहीं माने नीतीश कुमार.

सिटी पोस्ट लाइव : JDU के राष्ट्रिय उपाध्यक्ष ,देश के जानेमाने चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर और मुख्यमंत्री के बीच हुई मीटिंग में क्या हुआ, खबर लीक हो गई है.सूत्रों के अनुसार मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भारी मन से इस्तीफे की पेशकश लेकर पहुंचे प्रशांत किशोर का नीतीश कुमार ने गर्मजोशी के साथ स्वागत किया.प्रशांत किशोर ने सबसे पहले मुख्यमंत्री के सामने अपने इस्तीफे की पेशकश की, जिसे नीतीश कुमार ने नजर-अंदाज कर दिया.

सूत्रों के अनुसार इसके बाद चाय की चुस्की के साथ NRC और CAB पर चर्चा हुई.प्रशांत किशोर ने कहा कि NRC और CAB जैसे दो बिलों का एक साथ पास होना खतरनाक है.इससे धर्म के नाम पर अल्पसंख्यकों के साथ भेदभाव और फर्जी मुकदमे होगें.उनकी परेशानी बढ़ेगी.प्रशांत किशोर ने कहा कि केवल नागरिकता संशोधन बिल से ज्यादा फर्क नहीं पड़ेगा लेकिन उसके साथ NRC को जोड़ देने से गंभीर संकर पैदा होसकता है.मुख्यमंत्री ने बड़े धयन से उनकी बातें सुनी.जब कोई अनुकूल प्रतिक्रिया नहीं मिली तो प्रशांत किशोर ने बीच बीच में कुल तीन बार अपने इस्तीफे की पेशकश की लेकिन मुख्यमंत्री ने इस्तीफा लेने से इंकार कर दिया.

Also Read

-sponsored-

प्रशांत किशोर के करीबी लोगों के अनुसार जिस तरह से उनके खिलाफ पार्टी के लोग बयान दे रहे थे, उससे वो बहुत आहत थे. उन्होंने खुद नीतीश कुमार से मिलने का समय माँगा और नीतीश कुमार ने समय दे भी दिया.प्रशांत किशोर अपने स्टैंड पर कायम हैं लेकिन साथ ही वो मामले को ज्यादा तूल देकर नीतीश कुमार को परेशानी में भी नहीं डालना चाहते.प्रशांत किशोर ने मुख्यमंत्री से मुलाक़ात के बाद कहा कि JDU ने हमेशा NRC का विरोध किया है. उन्हें उम्मीद है पार्टी आगे भी इसका विरोध करेगी.प्रशांत किशोर ने कहा कि जन-जीवन हरियाली कार्यक्रम से फ्री होने के बाद खुद मुख्यमंत्री इस मामले पर विचार करेगें और अपनी राय सामने रखेगें.

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.