By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

पंचायत चुनाव की तैयारी जोरों पर, आयोग ने जारी किया आदेश, 20 अगस्त तक काम करना है पूरा

HTML Code here
;

- sponsored -

बिहार में पंचायत चुनाव को लेकर एक बार फिर पूरे जोर-शोर से तैयारी चल रही है. कोरोना के दूसरी लहर से पहले भी पंचायत चुनाव को लेकर सारी तैयारी की जा चुकी थी. लेकिन कोरोना ने सभी उम्मीदों और तैयारियों पर पानी फेर दिया.

-sponsored-

सिटी पोस्ट लाइव : बिहार में पंचायत चुनाव को लेकर एक बार फिर पूरे जोर-शोर से तैयारी चल रही है. कोरोना के दूसरी लहर से पहले भी पंचायत चुनाव को लेकर सारी तैयारी की जा चुकी थी. लेकिन कोरोना ने सभी उम्मीदों और तैयारियों पर पानी फेर दिया. अब जब कोरोना के मामले बिहार में शांत हैं तो राज्य निर्वाचन आयोग के दिशा निर्देश के बीच बड़े ही जोर शोर से पंचायत चुनाव की तैयारियां चल रही हैं. इसे लेकर EVM मशीनें भी आ गई है. जिसकी फर्स्ट लेवल जांच 20 अगस्त तक कर ली जाएगी.

निर्वाचन आयोग ने सभी जिलों के निर्वाचित पदाधिकारियों को ईवीएम की फर्स्ट लेवल जांच कराने का निर्देश दे दिया है. आयोग सूत्रों के अनुसार जिला प्रशासन की विशेष निगरानी में ईवीएम का फर्स्ट लेवल जांच किया जाएगा. संबंधित ईवीएम निर्माता कंपनियों के इंजीनियर चुनाव आयोग के दिशा-निर्देश पर सभी जिलों में जाकर जांच करेंगे.

ईवीएम की जांच के दौरान प्रशासन के अतिरिक्त उक्त क्षेत्र के प्रमुख संभावित प्रत्याशियों को भी आमंत्रित किया जाएगा. सूत्रों के अनुसार पंचायत चुनाव में इस्तेमाल होने वाले सभी 1 लाख 88 हजार ईवीएम की फर्स्ट लेवल जांच की जाएगी. 20 अगस्त तक सभी जिलों में फर्स्ट लेवल जांच की प्रक्रिया हर हाल में पूरी कर लेनी होगी. इसके लिए सभी जिलों को आयोग द्वारा जरूरी हिदायतें जारी कर दी गई हैं.

Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

बता दें राज्य के पंचायत चुनाव में चार पदों मुखिया, वार्ड सदस्य, पंचायत समिति सदस्य व जिला परिषद सदस्य के लिए ईवीएम के माध्यम मतदान होना निर्धारित है. जबकि शेष दो पदों पंच व सरपंच के चुनाव के लिए बैलेट पेपर के माध्यम से चुनाव होगा. हालांकि अभी तक चुनाव की तारीखों का ऐलान नहीं हुआ है, इसके बावजूद ग्रामीण क्षेत्रों में इसे लेकर हलचल तेज है. मुखिया सरपंच बनने की चाहत रखने वाले ज्यादातर युवा देखे जा रहे हैं. उन्हें समाज सेवा में रूचि है या पैसे में ये तो पता नहीं लेकिन युवा जिस तरह से इसे देख रहे हैं उससे साफ़ लगता है कि शायद वे गांवों का कायाकल्प जरुर करेंगे.

HTML Code here
;

-sponsered-

;
HTML Code here

-sponsored-

Comments are closed.