By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

PU छात्र संघ चुनाव: PU के दंगल में ताल ठोंक रही हैं छात्रायें, अध्यक्ष बनने रेस में हैं शामिल

Above Post Content

- sponsored -

पटना विश्वविद्यालय (Patna University) के छात्र संघ चुनाव (Student Union Election) को लेकर गहमागहमी बढ़ गई है. नामांकन की प्रक्रिया भी चल रही है. छात्र संगठनों का चुनाव प्रचार शुरु हो चुका है.

Below Featured Image

-sponsored-

PU छात्र संघ चुनाव: PU के दंगल में ताल ठोंक रही हैं छात्रायें, अध्यक्ष बनने रेस में हैं शामिल.

सिटी पोस्ट लाइव : पटना विश्वविद्यालय (Patna University) के छात्र संघ चुनाव (Student Union Election) को लेकर गहमागहमी बढ़ गई है. नामांकन की प्रक्रिया भी चल रही है. छात्र संगठनों का चुनाव प्रचार शुरु हो चुका है. इस बार के चुनाव में 21 हजार से अधिक वोटर वोटर लिस्ट में शामिल हैं. छात्राएं भी चुनाव में खूब रूचि ले रही हैं. वोटर लिस्ट में छात्राओं की संख्या भी अच्छी खासी है. महिला कॉलेजों के बाहर भी चुनाव का पर्चा लिये यूनिवर्सिटी (University) के छात्र नजर आ रहे हैं. जो छात्राओं से खुद को या अपने कैंडिडेट को वोट करने की अपील कर रहे हैं.

महिला कॉलेज कि छात्राएं भी चुनाव को लेकर उत्साहित हैं. महिला कॉलेजों में छात्राओं में छात्र संघ चुनाव को लेकर काफी उत्साह है. मगध महिला कॉलेज की छ्हत्राओं का दावा है कि इस बार मगध महिला कि छात्राएं चुनाव में अच्छे पदों पर जीत दर्ज करेंगी. इसबार काफी लड़कियां चुनाव में खड़ी हो रही हैं और चुनाव में इस बार गर्ल पावर दिखेगा.

Also Read
Inside Post 3rd Paragraph

-sponsored-

पटना यूनिवर्सिटी में इस बार 21 हजार से अधिक वोटर हैं. 50 प्रतिशत से ज्यादा महिला वोटर यानी छात्राएं हैं. पटना विमेंस कॉलेज कि छात्राएं भी एलेक्शन मोड में नजर आ रही हैं. यहां कि छात्राएं वोट देने से लेकर नॉमिनेशन तक में आगे रहना चाहती हैं और अपने मुद्दों को लेकर भी सजग दिख रही हैं.वो कॉलेज कॉउंसलर से लेकर सेंट्रल पैनल तक के पद के लिए नांमांकन कर रही हैं.छात्राओं का कहना है कि उनके कॉलेज में सौ फीसदी वोटिंग होने की गारंटी है.

21 हजार वोटरों में 50 प्रतिशत से ज्यादा महिला वोटर हैं. लेकिन हकीकत ये है कि आज तक कोई छात्रा अध्यक्ष पद काबिज नहीं हो पाई. पटना वीमेंस कॉलेज में करीब 4700 वोटर हैं. मगध महिला कॉलेज में छात्रा वोटरों की संख्या चार हजार के करीब है. इसके अलावा पीजी के विभागों और दूसरे कॉलेजों में छात्राओं की संख्या अच्छी खासी है. यहां तक की बड़ी-बड़ी पार्टियां भी छात्राओं को छात्र संघ चुनाव में अपना चेहरा नहीं बना रही . छात्राओं को सीट नहीं दे रही है. लेकिन इसबार पटना यूनिवर्सिटी की छात्राएं भी इसबार  ताल ठोक रही हैं.

Below Post Content Slide 4

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.