By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

मांझी और कुशवाहा की प्रशांत किशोर से मुलाकात पर उठे सवाल, राजद ने लगाए आरोप

- sponsored -

2020 चुनावी साल है, ऐसे में राजनीतिक पार्टियों की सक्रियता कितनी बढ़ जाती है, आप महागठबंधन से सिख सकते हैं. दरअसल पिछले दिनों महागठबंधन में मची रार अबतक शांत नहीं हुई है. महागठबंधन में दरार साफ़ तौर पर देखने को मिल रहा है.

Below Featured Image

-sponsored-

मांझी और कुशवाहा की प्रशांत किशोर से मुलाकात पर उठे सवाल, राजद ने लगाए आरोप

सिटी पोस्ट लाइव : 2020 चुनावी साल है, ऐसे में राजनीतिक पार्टियों की सक्रियता कितनी बढ़ जाती है, आप महागठबंधन से सिख सकते हैं. दरअसल पिछले दिनों महागठबंधन में मची रार अबतक शांत नहीं हुई है. महागठबंधन में दरार साफ़ तौर पर देखने को मिल रहा है. यह कह सकते है कि, इसका एक और नज़ारा शायद विधानसभा चुनाव से पहले भी देखने को मिल जाए. दरअसल जीतन राम मांझी, उपेंद्र कुशवाहा, और मुकेश साहनी ने प्रशांत किशोर से गुरुवार को मुलाकात की थी. जिसके बाद महागठबंधन के खेमे में घमासान मच चुका है. और ये घमासान कांग्रेस और राजद के तरफ से छेड़ा गया है. राजद की ओर से जारी बयान में महागठबंधन को तोड़ने की साजिश करार दिया गया है.

जहां’ एक तरफ महागठबंधन के तमाम नेता विधानसभा चुनाव में मुख्यमंत्री का चेहरा तेजस्वी यादव को मानते है. जिसका एक मात्र विरोध पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने किया था. और अब प्रशांत किशोर से हुई गुपचुप मुलाकात के बाद राजद ने इसे महागठबंधन को तोड़ने की साजिश कह डाली है. शिवानंद तिवारी ने जीतन राम माझी पर तंज कसा है. उन्होंने कहा की, मांझी को सिर्फ सुर्ख़ियों में बने रहने की आदत है. आगे कहते है की, माझी हमेशा मीडिया में छाए रहने, अपनी चर्चाए करवाने के लिए ऐसे हत्कंडे अपनाते है. उन्होंने साफ़ तौर पर मांझी को चेतावनी देते हुए कहा की, मांझी ये समझ ले की, महागठबंधन का नेतृत्व सिर्फ तेजस्वी यादव ही करेंगे.

Also Read

-sponsored-

बंदना शर्मा की रिपोर्ट

Below Post Content Slide 4

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.