By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

सुपौल में रंजीता रंजन की राह आसान नहीं, राजद कार्यकर्ता ने भी ठोकी ताल

- sponsored -

इस बार सुपौल से रंजीता रंजन की राह आसान नजर नहीं आ रही है क्योंकि पहले से ऐसी खबर है कि वो भीतरघात की शिकार हो सकती हैं और संभवतः राजद हीं उनकी राह मुश्किल कर सकती है क्येांकि तेजस्वी यादव उनके पति पप्पू यादव की खिलाफत से नाराज हैं। तेजस्वी नहीं चाहते थे कि पप्पू यादव मधेपुरा से शरद यादव के खिलाफ चुनाव लड़े लेकिन पप्पू यादव पीछे नहीं हटे

सुपौल में रंजीता रंजन की राह आसान नहीं, राजद कार्यकर्ता ने भी ठोकी ताल

सिटी पोस्ट लाइवः इस बार सुपौल से रंजीता रंजन की राह आसान नजर नहीं आ रही है क्योंकि पहले से ऐसी खबर है कि वो भीतरघात की शिकार हो सकती हैं और संभवतः राजद हीं उनकी राह मुश्किल कर सकती है क्येांकि तेजस्वी यादव उनके पति पप्पू यादव की खिलाफत से नाराज हैं। तेजस्वी नहीं चाहते थे कि पप्पू यादव मधेपुरा से शरद यादव के खिलाफ चुनाव लड़े लेकिन पप्पू यादव पीछे नहीं हटे इसलिए यह कयास लगने लगे कि तेजस्वी रंजीता रंजन की राह मुश्किल कर सकते हैं।

अब मीडिया रिपोर्ट्स के हवाले से खबर है कि एक राजद कार्यकर्ता दिनेश यादव ने रंजीता रंजन के खिलाफ निर्दलीय चुनाव मैदान में उतरने का एलान किया है और नामांकन भी दाखिल कर दिया है। राजद कार्यकर्ता दिनेश यादव के नामांकन दाखिल करने के साथ हीसुपौल लोकसभा सीट की लड़ाई और दिलचस्प हो गयी है. माना जा रहा है कि मधेपुरा सीट से पप्पू यादव का नामांकन वापस नहीं लेने के बाद सुपौल सीट पर रंजीत रंजन को हराने उद्येश्य से राजद कार्यकर्ता दिनेश यादव ने अपना नामांकन दाखिल किया है. गौरतलब है कि रंजीता रंजन के विरोध में राजद विधायक यदुवंश यादव ने पहले से ही मोर्चा खोल रखा है.

Also Read

-sponsored-

निर्दलीय प्रत्याशी दिनेश यादव का कहना है कि ये सीट राजद की है ओर प्रदेश नेतृत्व के द्वारा थोपी गई प्रत्याशी रंजीत रंजन राजद कार्यकर्ताओं को बर्दाश्त नहीं है. उन्होंने दावा किया है कि उन्हें राजद के नेताओं का भी समर्थन प्राप्त है और इसी कारण उन्होंने नामांकन दाखिल किया है.राजद कार्यकर्ताओं का कहना है कि इस चुनाव में रंजीत रंजन को हार का मुंह देखना होगा, नहीं तो अभी भी समय है, पप्पू यादव मधेपुरा लोकसभा सीट से अपना नामांकन वापस ले.

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.