By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

आरजेडी दफ्तर में होगा छात्र राजद इकाई की बैठक,तेजप्रताप करेंगे अध्यक्षता

- sponsored -

सिटी पोस्ट लाइव- बिहार में राजद सुप्रीमों का परिवार एक बार फिर से तेजप्रताप यादव के कारण सुर्ख़ियों में है. राजद की छात्र इकाई की बैठक शनिवार को पटना में बैठक होगी जिसकी अध्यक्षता लालू प्रसाद के बड़े पुत्र तेजप्रताप यादव करेंगे. माना जा रहा है कि यह बैठक आरजेडी के दफ्तर में होगी. मालुम हो कि जनवरी महीने में तेजप्रताप यादव ने छात्र राजद के संरक्षक पद से इस्तीफा दे दिया था. जाहिर है इसको लेकर अब फिर से कयासों का बाजार गर्म हो गया है.

आरजेडी दफ्तर में होगा छात्र राजद इकाई की बैठक,तेजप्रताप करेंगे अध्यक्षता

सिटी पोस्ट लाइव- बिहार में राजद सुप्रीमों का परिवार एक बार फिर से तेजप्रताप यादव के कारण सुर्ख़ियों में है. राजद की छात्र इकाई की बैठक शनिवार को पटना में बैठक होगी जिसकी अध्यक्षता लालू प्रसाद के बड़े पुत्र तेजप्रताप यादव करेंगे. माना जा रहा है कि यह बैठक आरजेडी के दफ्तर में होगी. मालुम हो कि जनवरी महीने में तेजप्रताप यादव ने छात्र राजद के संरक्षक पद से इस्तीफा दे दिया था. जाहिर है इसको लेकर अब फिर से कयासों का बाजार गर्म हो गया है.

लेकिन अब कयासों के साथ सवाल भी उठने लगे हैं. क्या तेजप्रताप यादव फिर से आरजेडी में सक्रिय भूमिका निभाने जा रहे हैं? क्या लालू यादव से उन्हें हरी झंडी मिल गई है? क्या तेजस्वी यादव अब बैकफुट पर चले गए हैं? ये सवाल इसलिए भी उठ रहे हैं क्योंकि जब तेजप्रताप यादव ने 28 जनवरी को छात्र राजद संरक्षक का पद छोड़ा था तो उन्होंने काफी तल्खी दिखाई थी. उन्होंने तब ट्वीट कर लिखा था कि नादान हैं वो लोग जो हमें नादान समझते हैं. कौन कितने पानी में है सबकी है खबर मुझे. छात्र राष्ट्रीय जनता दल के संरक्षक के पद से मैं इस्तीफा दे रहा हूं.’

Also Read

-sponsored-

बता दें कि राजद परिवार में दोनों पुत्रों के बीच तालमेल का अभाव देखा जा रहा है.चुनाव के समय भी यह देखने को मिला जब तेजस्वी यादव पर तेजप्रताप यादव ने चुनावी प्रचार में न ले जाने का आरोप लगाया था. बात तल्खी की दोनों पुत्रों में यहाँ तक पहुँच गयी कि तेजप्रताप यादव ने शिवहर एवं जहानाबाद से अपने उम्मीदवार तक उतार दियें .शिवहर के अंगेश सिंह का कुछ कारणों से तो नॉमिनेशन रद्द हो गया लेकिन जहानाबाद से मैदान में उतरे अपने प्रत्याशी चन्द्र प्रकाश यादव के समर्थन में उन्होंने जमकर प्रचार किया. उन्होंने कई बार यह आरोप भी लगाया कि पार्टी में उनकी बात नहीं सुनी जा रही है.
जे.पी.चंद्रा की रिपोर्ट

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.