By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

शिवसेना के प्रत्याशी ने भरा पर्चा, कहा फौजी का बेटा हूं कुछ नहीं किया फिर भी हाथों में हथकड़ी है’

- sponsored -

पश्चिम चंपारण जिला के 02 लोकसभा हेतु जेल से नामांकन का पर्चा भरने शिव सेना के प्रत्याशी त्रिपुरारी कुमार तिवारी को समाहरणालय लाया गया। जहाँ नामांकन के कागजी कार्यवाही किया गया। उसके पूर्व बेतिया शहर के कालीबाग मंदिर प्रांगण से उनके समर्थकों द्वारा जिंदा बाद के नारे लगाते हुए समाहरणालय गेट तक पहुचे।

शिवसेना के प्रत्याशी ने भरा पर्चा, कहा फौजी का बेटा हूं कुछ नहीं किया फिर भी हाथों में हथकड़ी है’

सिटी पोस्ट लाइवः पश्चिम चंपारण जिला के 02 लोकसभा हेतु जेल से नामांकन का पर्चा भरने शिव सेना के प्रत्याशी त्रिपुरारी कुमार तिवारी को समाहरणालय लाया गया। जहाँ नामांकन के कागजी कार्यवाही किया गया। उसके पूर्व बेतिया शहर के कालीबाग मंदिर प्रांगण से उनके समर्थकों द्वारा जिंदा बाद के नारे लगाते हुए समाहरणालय गेट तक पहुचे। जैसे ही जेल से शिवसेना के प्रत्याशी त्रिपुरारी कुमार तिवारी की गाड़ी समाहरणालय पहुँची, वैसे ही उनके समर्थकों ने एक स्वर में जिंदा बाद के नारे लगाने लगे। उक्त अवसर पर शिवसेना प्रत्याशी त्रिपुरारी कुमार तिवारी ने कहा कि फौजी का बेटा हूं कुछ नहीं किया फिर भी हाथों में हथकड़ी है। बे

तिया एमजेके कॉलेज जहां तोड़फोड़ हुआ था वहां 450 बच्चे थे जहां मैं था भी नहीं वहां फंसा दिया गया। इसमें प्रशासन की कोई गलती नहीं है। प्रशासन सराहनीय कदम रहा है। साथ ही उन्होंने आगे कहा कि स्वत्व या कॉलेज के प्राचार्य की पत्नी जो कि 58 वर्ष की है ।उनसे छेड़छाड़ का आरोप लगाया गया है। जिनके सामने अगर खड़ा हो जाऊं वह पहचान भी नहीं सकती हैं। आपको बताते चलें कि त्रिपुरारी कुमार तिवारी पूर्व में युवा जागरण मंच में 1 जनवरी 2018 में सचिव का पदभार दिया गया और यह सामाजिक कार्य में अपने कदम बढ़ाते गए संघ के माध्यम से।

Also Read

-sponsored-

वही इस अवसर पर एंटीकरप्शन के राष्ट्रीय अध्यक्ष सह युवा जागरण मंच के अध्यक्ष दीपेश सिंह ने कहा कि आज देश को नवयुवकों की आवश्यकता है। जो देश के विकास कार्य मे अपनी कदम से कदम मिला सके। उसी कड़ी में शिव सेना से पश्चिम चंपारण लोकसभा से त्रिपुरारी कुमार तिवारी ने अपना नामांकन कस पर्चा भरा है। यह संघठन कट्टर हिन्दू संघठन माना जाता है। लेकिन देश के विकास के सभी हमेशा से संघठन के कार्यकर्ता तत्पर रहे है।

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.