By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

बहन राबडी देबी ने ठुकराया तो बहन मायावती ने साधू यादव को हाथी पर बिठाया.

;

- sponsored -

[pro_ad_display_adzone id="49226"]

-sponsored-

सिटी पोस्ट लाइव : लालू यादव के हाई प्रोफाइल साले साधू यादव एकबार फिर से चर्चा में हैं.चर्चा में इसलिए हैं कि जीजा लल्लू यादव और बहन राबडी देबी ने तो साथ छोड़ दिया है लेकिन बहन मायावती ने उन्हें चढ़ने के लिए अपना हाथी दे दिया है.RJD  सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के साले साधु यादव उर्फ़ अनिरुद्ध प्रसाद यादव ने बतौर मायावती की बहुजन बहुजन समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार के रूप में अपना नामांकन कर दिया है.

बसपा की टिकट पर चुनावी मैदान में दम दिखा रहे लालू यादव ने शुक्रवार को पुरे दमखम के साथ अपना नामांकन पर्चा दाखिल किया.लेकिन गोपालगंज जिला प्रशासन उनके ऊपर नगर थाना में आदर्श आचार संहिता उल्लंघन मामले में प्राथमिकी दर्ज करा दिया है. यह प्राथमिकी सदर सीओ विजय कुमार सिंह ने दर्ज कराइ है. उनके ऊपर आरोप है की उनके द्वारा पुरे शहर में बिना इजाजत के रैली निकाली गयी और घंटो मजमा लगाया गया.शुक्रवार को गोपालगंज में नामांकन करने का आखिरी दिन था.सभी दलों और निर्दल प्रत्याशी गोपालगंज जिला समाहरणालय में नामांकन करने पहुंचे थे. आरोप है कि साधु यादव उर्फ़ अनिरुद्ध प्रसाद यादव ने नामांकन करने के दौरान पुरे शहर में हजियापुर से लेकर मौनिया चौक तक रैली का आयोजन किया.इस रैली में करीब 300 से लेकर 400 लोग शामिल हुए.

सदर सीओ विजय कुमार सिंह ने बताया की साधु यादव के द्वारा रैली के लोई इजाजत नहीं ली गयी थी. चुनाव को लेकर आदर्श आचार संहिता लागू है. और पुरे जिले में धारा 144 लगायी गयी है. जिसकी वजह से बिना इजाजत के कोई भी सभा या जुलुस करनें की इजाजत नहीं है. लेकिन आज दोपहर में करीब साढ़े बजे साधु यादव उर्फ़ अनिरुद्ध प्रसाद यादव के द्वारा शहर में बिना इजाजत के रैली निकाली गयी थी. जिसको लेकर उनके ऊपर केस दर्ज कराया गया है.

लेकिन साधु यादव का कहना है कि उनके द्वारा कोई भी आचार संहिता का उल्लंघन नहीं किया गया है. उनके द्वारा सिर्फ एक गाड़ी का इस्तेमाल किया गया था. अब नामांकन भरने के दौरान जनता का समर्थन और भारी भीड़ उनके साथ चलने लगी इसमें उनका कोई दोष नहीं है. साधु यादव ने कहा की उनके साथ भारी भीड़ देखकर सरकार में बैठे लोग ऐसे प्राथमिकी दर्ज करवा रहे है. वे चुनाव आयोग के निर्देशों का पालन करने वाले व्यक्ति है.साधु यादव ने कहा उनके द्वारा गोपालगंज में सदर अस्पताल से लेकर कॉलेज , ब्लड बैंक से लेकर अम्बेडकर भवन की स्थापना की गयी. वो विकास कार्य को आगे बढ़ाएगें.

बहरहाल साधु यादव के बसपा के टिकट लड़ने से गोपालगंज में चुनाव रोमांचक हो गया है. यहां बीजेपी विधायक सुभाष सिंह के अलावा महागठबंधन से कांग्रेस प्रत्याशी आसिफ गफूर और बसपा से साधु यादव मैदान में है. जिससे लोगों की निगाहें गोपालगंज पर टिक गयी हैं कि आखिरकार इस सीट पर चुनाव परिणाम का नतीजा क्या होता है.गौरतलब है कि लालू राबडी के राज में साधू यादव की तूती बोलती थी.गोपालगंज से लोक सभा चुनाव भी जीत चुके हैं.कहा जाता है कि उनके बढ़ते राजनीतिक प्रभाव को रोकने के लिए ही लालू यादव ने इस सीट को रिज़र्व करवा दिया.

;

-sponsored-

Comments are closed.