By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

स्पेशल शोः राजनीति में खेल और खेल में राजनीति को दिखाती है फिल्म ‘किरकेट’

- sponsored -

देश में क्रिकेट सिर्फ एक खेल नहीं बल्कि एक जुनून है। एक सपना है जो ज्यादातर युवाओं की आंखों में पलता है। हिन्दुस्तान अपने क्रिकेटरों को दिल में जगह देेता है कुछ खिलाड़ी पूजे जाते हैं और क्रिकेट का यही मुकाम सबको भाता है और सब यहीं पहुंचना चाहते हैं लेकिन बिहार में क्रिकेट ने काफी बुरा दिन देखा है।

-sponsored-

स्पेशल शोः राजनीति में खेल और खेल में राजनीति को दिखाती है फिल्म ‘किरकेट’

सिटी पोस्ट लाइवः देश में क्रिकेट सिर्फ एक खेल नहीं बल्कि एक जुनून है। एक सपना है जो ज्यादातर युवाओं की आंखों में पलता है। हिन्दुस्तान अपने क्रिकेटरों को दिल में जगह देेता है कुछ खिलाड़ी पूजे जाते हैं और क्रिकेट का यही मुकाम सबको भाता है और सब यहीं पहुंचना चाहते हैं लेकिन बिहार में क्रिकेट ने काफी बुरा दिन देखा है। खेल में राजनीति और राजनीति में जो खेल चलता है बिहार उसका शिकार ज्यादा है। क्रिकेटर से नेता बने और नेता से अभिनेता बने कीर्ति झा आजाद की मुख्य भूमिका वाली फिल्म ‘किरकेट’ खेल में राजनीति और राजनीति में खेल की कहानी को बयां करती है।

आज फिल्म का स्पेशल शो रखा गया था। फिल्म के कलाकारों के साथ पटना के सिनेपाॅलिस हाल में कीर्ति झा आजाद खुद मौजूद थे। फिल्म के बारे में मीडिया से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि जातिवाद, अमीर गरीब, राजनीति जैसी समस्यओं को इस फिल्म मे दिखाया गया है। उन्होंने कहा कि बिहार में क्रिकेट का इंफ्रास्ट्रक्चर नहीं है बिहार क्रिकेट एसोसिएशन को इसे खड़ा करना चाहिए। मुझ से जो मदद बन पड़ेगी मैं करूंगा। बिहार सरकार के पास स्टेडियम हीं नहीं है। मोइनुल हक स्टेडियम भी जर्जर हालत में है।

Also Read

-sponsored-

उन्होंने कहा कि बिहार के सीएम नीतीश कुमार से आग्रह होगा कि खेल का इन्फ्रास्ट्रक्चर बढ़ाएं अगर मेरी मदद की जरूरत पड़ेगी तो मैं करूंगा। वैसे मैंने एक दो बार प्रयास जरूर किया था लेकिन ऐसा लगता है उन्हें मेरी जरूरत नहीं है।

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.