By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

तेजस्वी को तेजप्रताप ने दी बड़ी नसीहत, कहा- सरकार बनानी है तो कांग्रेस को साथ लेकर चलना जरूरी

HTML Code here
;

- sponsored -

बिहार की सियासत में इन दिनों काफी उथल-पुथल मची हुई है. एक तरफ महागठबंधन में टूट को लेकर हलचल मची हुई है तो वहीं दूसरी तरफ लालू परिवार में शीत युद्ध थमने का नाम ही नहीं ले रहा है. इस बीच एक बार फिर से नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव और उनके बड़े भाई तेजप्रताप यादव आंमने-सामने आ गए हैं.

-sponsored-

सिटी पोस्ट लाइव: बिहार की सियासत में इन दिनों काफी उथल-पुथल मची हुई है. एक तरफ महागठबंधन में टूट को लेकर हलचल मची हुई है तो वहीं दूसरी तरफ लालू परिवार में शीत युद्ध थमने का नाम ही नहीं ले रहा है. इस बीच एक बार फिर से नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव और उनके बड़े भाई तेजप्रताप यादव आंमने-सामने आ गए हैं. दरअसल, तेजप्रताप यादव ने तेजस्वी यादव को बड़ी नसीहत दे डाली है. तेजप्रताप यादव ने कहा कि, तेजस्वी यादव को यदि मुख्यमंत्री बनना है तो कांग्रेस के साथ रिश्ते बरकरार रखने होंगे.

साथ ही कहा कि, राजनीतिक दलों में उथल-पुथल लगी रहती है लेकिन राजद और कांग्रेस अंदर से एक ही हैं. राजद और कांग्रेस को अलग नहीं होना चाहिए. तेजप्रताप यादव ने तेजस्वी यादव को नसीहत देते हुए कहा कि, यदि तेजस्वी यादव को सीएम बनना है तो कांग्रेस से रिश्ता बना रहना चाहिए. मुंगेर में चुनाव प्रचार के दौरान तेजस्वी यादव के मछली मारने पर भी तेजप्रताप ने कहा कि तेजस्वी को बच्चों के साथ मछली मारने की जगह उन्हें कलम-किताबें देनी चाहिए.

साथ ही महागठबंधन में टूट को लेकर तेजस्वी यादव से कहा कि, जब विदेशी मूल के मुद्दे पर कांग्रेस में उथल-पुथल मची थी तो लालू प्रसाद ने सोनिया गांधी का साथ दिया था और उन्हें देश की बहू बताया था.  कहा कि, तेजस्वी यादव को सरकार बनाना है तो कांग्रेस को साथ में लेकर चलना होगा. बता दें कि, बिहार में उपचुनाव को लेकर महागठबंधन में टूट हो गयी है. राजद और कांग्रेस दोनों ने तारापुर और कुशेश्वरस्थान दोनों सीट से अपने-अपने उम्मीदवार उतारे हैं. वहीं, अब तेजप्रताप ने तेजस्वी यादव को बड़ी नसीहत दे डाली है.

HTML Code here
;

-sponsered-

;
HTML Code here

-sponsored-

Comments are closed.